लंदन, प्रेट्र। प्रिंस हैरी की नवजात पुत्री का नाम लिलिबेट रखने पर विवाद हो गया। उन्हें इस मामले में बुधवार को एक बयान जारी करना पड़ा। लिलिबेट उनकी दादी महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का उपनाम है। बकिंगम पैलेस के सूत्रों ने दावा किया था कि नवजात के नामकरण को लेकर 95 वर्षीय महारानी से नहीं पूछा गया था।

शाही महल के एक सूत्र ने बीबीसी से कहा था कि दंपती ने अपनी नवजात पुत्री के नामकरण के बारे में महारानी से नहीं पूछा था। उसने उन खबरों को खारिज कर दिया कि प्रिंस हैरी और मेगन मर्केल ने नाम के संबंध में बच्ची के जन्म से पहले ही महारानी से बात कर ली थी। बीबीसी की रिपोर्ट के बाद दंपती ने ब्रिटेन की मीडिया को एक वैधानिक चेतावनी जारी करते हुए कहा है, 'लेख फर्जी व अपमानजनक है। इस प्रकार के आरोपों की पुनरावृत्ति नहीं होनी चाहिए।' प्रिंस हैरी की बेटी का जन्म चार जून को हुआ था। रविवार को इसकी आधिकारिक घोषणा की गई है।                                                           

प्रिंस हैरी और मेगन मर्केल की दूसरी संतान का नाम महारानी एजिलाबेथ द्वितीय और हैरी की मां डायना के नाम पर लिलिबेट 'लिली' डायना माउंटबेटन-विंडसर रखा गया है। इससे पहले उनका दो साल का बेटा आर्ची हैरिसन माउंटबेटन-विंडसर है। उनकी बेटी लिली शाही परिवार में ग्यारहवीं परपोती हैं।

बता दें कि शाही परिवार में यह पहला बच्चा है, जिसने ब्रिटेन से बाहर जन्म लिया है। हैरी और मेगन पिछले साल कैलिफोर्निया में बस गए थे। दंपती के प्रेस सचिव ने बयान जारी करते हुए है कि लिली का जन्म शुक्रवार को सुबह 11.40 बजे हुआ है। महारानी का लिलिबेट उपनाम उनके दादा किंग जार्ज पंचम ने रखा था, जब वह बच्ची थीं। अब हैरी और मर्केल की पुत्री के नाम में यह उपनाम जुड़ गया है।

 

Edited By: Manish Pandey