Move to Jagran APP

UK: भारतीय उच्चायोग के बाहर प्रदर्शन करने वाला शख्स गिरफ्तार, बाद में जमानत पर छूटा

ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग के बाहर प्रदर्शन के मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। हालांकि आरोपी को बाद में जमानत देकर छोड़ दिया गया। बताया जा रहा है कि आरोपी भारतीय उच्चायोग पर हुए विरोध प्रदर्शन में शामिल था। पुलिस ने दो अक्टूबर को हुए प्रदर्शन के दौरान उसे गिरफ्तार किया था।

By AgencyEdited By: Manish NegiThu, 05 Oct 2023 02:34 PM (IST)
भारतीय उच्चायोग के बाहर प्रदर्शन करने वाला शख्स गिरफ्तार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

एजेंसी, लंदन। ब्रिटेन में इसी साल मार्च में हुए भारतीय उच्चायुक्त पर हमले के मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने इसकी जानकारी दी है। पुलिस ने बताया कि आरोपी को इंडिया हाउस के बाहर इसी सोमवार को एक प्रदर्शन के दौरान गिरफ्तार किया गया।

पुलिस ने बताया कि उसे 19 मार्च को एक विरोध प्रदर्शन के सिलसिले में पकड़ा गया था। पूछताछ के बाद उसे रिहा कर दिया गया। समाचार एजेंसी ने बताया कि पुलिसकर्मी प्रदर्शन के बाद एक ब्रिटिश सिख को पकड़कर ले जाते देखे गए। ये प्रदर्शन आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या पर कनाडा की ओर से लगाए गए आरोपों को लेकर किया गया था। प्रदर्शनकारियों ने मामले में ब्रिटिश सरकार से हस्तक्षेप की मांग की है।

पुलिस ने एक बयान में कहा कि भारतीय उच्चायोग के बाहर 2 अक्टूबर को प्रदर्शन के दौरान हिंसा के शक में आरोपी को गिरफ्तार किया गया। इसी जगह 19 मार्च को भी विरोध प्रदर्शन हुए थे। बयान में आगे कहा गया कि आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई और फिर उसे जमानत दे दी गई।

NIA की लिस्ट में आरोपी

पुलिस ने आरोपी के नाम की पुष्टि नहीं की है। हालांकि, बताया जा रहा है कि NIA की लिस्ट में वह शख्स भी शामिल था। एनआईए ने ऐसे लोगों की लिस्ट बनाई है, जो भारतीय उच्चायोग पर हमले के जिम्मेदार हैं। उस प्रदर्शन में खालिस्तानी समर्थक कुछ लोग इमारत पर चढ़ गए थे। इस दौरान भारत के राष्ट्रीय ध्वज को उतारने की कोशिश की गई। इस दौरान एक अधिकारी घायल हो गया था।

भारतीय उच्चायोग के बाहर हुए थे प्रदर्शन

भारतीय उच्चायोग पर प्रदर्शन का भारत ने कड़ा विरोध जताया था। भारत की तरफ से दिल्ली में सबसे वरिष्ठ राजनयिक को बुलाया गया था। प्रदर्शन के बाद एनआईए ने उन संदिग्धों की तस्वीरें जारी कीं, जो संदिग्ध तौर पर हिंसक विरोध प्रदर्शन में शामिल थे।