Move to Jagran APP

PHOTOS: मोदी-पुतिन की मुलाकात बन गई यादगार, दुनिया ने देखा भारत रूस का याराना; देखें शानदार तस्वीरें

PM Modi Russia Visit प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दो दिवसीय दौरे पर रूस की राजधानी मॉस्को में हैं। पीएम मोदी का मॉस्को में भव्य स्वागत किया गया। राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने गले मिलकर पीएम मोदी का गर्मजोशी से स्वागत किया। पीएम मोदी को देश का सबसे बड़ा सम्मान सेंट एंड्रयू द एपोस्टल की उपाधि दी गई है।पीएम ने इस उपाधि को प्राप्त करने के बाद खुद को गौरवान्वित बताया है।

By Babli Kumari Edited By: Babli Kumari Tue, 09 Jul 2024 08:02 PM (IST)
दुनिया ने देखा भारत-रूस का याराना (फोटो- जागरण ग्राफिक्स)

डिजिटल डेस्क, मास्को। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रूस के दौरे पर हैं। राजधानी मॉस्को पहुंचने पर सोमवार वनुकोवो अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर उनका भव्य स्वागत हुआ और उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को मॉस्को में राष्ट्रपति भवन में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात की।

पुतिन ने प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत किया और दोनों नेताओं ने गले मिलकर एक-दूसरे का अभिवादन किया। बैठक में जाने से पहले दोनों नेताओं ने हाथ मिलाया और एक-दूसरे का गर्मजोशी से अभिवादन किया। उन्होंने एक निजी बैठक और साथ में डिनर भी किया। आइए पीएम मोदी और राष्ट्रपति पुतिन का कैसा है संबंध तस्वीर के माध्यम से देखते हैं- 

अपनी अनौपचारिक बैठक की तस्वीरें साझा करते हुए, पीएम मोदी ने सोशल मीडिया एक्स (जिसे पहले ट्विटर के नाम से जाना जाता था) पर लिखा कि मैं राष्ट्रपति पुतिन को आज शाम नोवो-ओगारेवो में मेरा स्वागत करने के लिए धन्यवाद देता हूं।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने रूस के क्रेमलिन में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ऑर्डर ऑफ सेंट एंड्रयू द एपोस्टल द फर्स्ट-कॉल से सम्मानित किया।

मास्को में पीएम मोदी एक सैनिक की समाधि पर पुष्पांजलि भी अर्पित की।

मोदी ने पिछले दो दशकों में भारत-रूस संबंधों को मजबूत करने में राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के नेतृत्व की प्रशंसा की। 

22वें भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन में ऊर्जा, सुरक्षा, व्यापार, निवेश और लोगों के बीच आदान-प्रदान के क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित किया गया

यह भी पढ़ें- पीएम मोदी को मिला रूस का सर्वोच्च नागरिक सम्मान, अब तक 16 देश कर चुके हैं सम्मानित