नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। पाकिस्तान आतंकवादियों की शरणस्थली और कर्मस्थली है। वो अपनी जमीन पर आतंकवादियों को आतंक की ट्रेनिंग देते हैं, उसके बाद वो आतंकी दुनिया में आतंक फैलाते है। अंतरराष्ट्रीय आतंकी ओसामा बिन लादेन के पाकिस्तान के एबटाबाद में मारे जाने के बाद इस बात की पुष्टि भी हो चुकी है कि पाकिस्तान आतंकियों की सुरक्षित शरणस्थली है। इन दिनों पाकिस्तान के पीएम इमरान देश दुनिया के तमाम देशों में घूम-घूमकर कश्मीर पर मदद की मांग कर रहे हैं, मगर उनको कहीं से कुछ भी हासिल नहीं हो रहा है।

अमेरिकी सीनेटर ने किया दौरा, लगाई फटकार 

अमेरिकी सीनेटर मैगी हसन (US Senator Maggie Hassan)ने कहा कि पाकिस्तान को तालिबान और अन्य आतंकवादी समूहों का समर्थन बंद करना चाहिए, पाकिस्तान में दर्जनों आतंकी संगठन चल रहे हैं और पाकिस्तान आतंक फैलाने के मामले में तालिबान की भी मदद करता है। ऐसे में आतंकवाद को बढ़ावा मिल रहा है। उन्होंने ये बातें अपने साथी डेमोक्रेटिक सीनेटर क्रिस वान होलेन के साथ इस्लामाबाद की यात्रा के बाद कहीं। इसके बाद उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान, सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा से मुलाकात भी की। मालूम हो कि कई अमेरिकी अधिकारी इस सप्ताह अफगानिस्तान, पाकिस्तान और भारत का दौरा करने के लिए निकले हुए हैं ताकि इन क्षेत्रों में आतंकवाद के प्रयासों और कश्मीर के स्थिरीकरण पर काम किया जा सके।

नेताओं से मिलकर तय किए गए मुद्दे 

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री खान से मुलाकात के एक दिन बाद सीनेटर मैगी हसन ने कहा कि आतंकवादी हमलों को रोकने और आतंकवादी विचारधारा के प्रसार को रोकने के लिए और क्या किया जा सकता है, इन बातों पर पीएम इमरान खान से मुलाकात के बाद चीजें तय की गई। इन नेताओं से मिलकर इन मुद्दों पर बात करना काफी मददगार रहा है। उन्होंने कहा कि हमारे लिए पाकिस्तान के वरिष्ठ नेतृत्व से सीधे संवाद करना महत्वपूर्ण था। जिससे उनको ये समझाया जा सके पाकिस्तान को तालिबान और अन्य आतंकवादी समूहों को समर्थन नहीं करना चाहिए। इसी के साथ उन्होंने ये भी कहा कि कश्मीर में बढ़ते तनाव के बीच, यह महत्वपूर्ण है कि वो दोनों तरफ की स्थिति को देखें और समझे, यदि किसी वजह से तनाव की स्थिति है तो उसे कम करने के तरीके सुझाए जाएं।

स्पष्ट हैं चीजें 

मैगी हसन का कहना है कि आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले देशों के लिए कई चीजें स्पष्ट हैं। एक यह है कि पाकिस्तान तालिबान का समर्थन जारी रखता है। ऐसा करने में वो अल-कायदा का समर्थन जारी रखता है। अफगानिस्तान में आईएसआईएस की उपस्थिति है जो अन्य देशों के लिए सीधा खतरा है। उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किए गए एक छोटे वीडियो में कहा संयुक्त राज्य अमेरिका के दूतावास में बोलते हुए अफगानिस्तान में वह और वैन होलेन इस सप्ताह भी गए थे।

आतंकवाद विरोधी प्रयासों और मादक पदार्थों की तस्करी पर चर्चा 

अफगानिस्तान में, हासन और वैन होलेन ने वहां के राष्ट्रपति अशरफ गनी, गणराज्य के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डॉ. अब्दुल्ला अब्दुल्ला, शीर्ष अमेरिकी जनरलों और कुछ अन्य सैन्य अधिकारियों के साथ मिलकर आतंकवाद विरोधी प्रयासों और मादक पदार्थों की तस्करी पर चर्चा की। हसन और वैन होलेन ने अपनी यात्रा के दौरान पाकिस्तान नियंत्रित कश्मीर का भी दौरा किया। तब सीनेटर मैगी हसन ने कश्मीर और भारत-अमेरिकी द्विपक्षीय संबंधों की स्थिति पर चर्चा करने के लिए राजनीतिक नेताओं और अमेरिकी दूतावास के शीर्ष अधिकारियों के साथ भारत यात्रा की।

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद बौखलाया पाकिस्तान 

5 अगस्त को जम्मू- कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म कर दिया गया है। उसी के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। पाक पीएम इमरान खान दुनिया भर में भारत के खिलाफ समर्थन की मांग कर रहा है और कश्मीर पर अनुच्छेद 370 को बनाए रखने की मांग कर रहा है। भारतीय अधिकारी अब नियंत्रण रेखा के साथ आतंकवादी संगठनों को जुटाने वाले पाकिस्तान पर नजर रखे हुए हैं। फरवरी माह में पाकिस्तान स्थित जैश ए मोहम्मद आतंकी संगठन के एक आत्मघाती हमलावर ने कश्मीर के पुलवामा में सैनिकों के एक काफिले पर हमला कर दिया था जिसमें भारतीय सेना के 40 सैनिकों की मौत हो गई थी। रूस और कई अन्य देशों में तालिबान, अल-कायदा और (ISIL / ISIS / IS / Islamic State) जैसे संगठन प्रतिबंधित है। इनको आतंकवादी संगठन घोषित किया जा चुका है।  

ये भी पढ़ें: - जानिए अब NASA के वैज्ञानिक किस तरह के Lander को चांद पर भेजने की कर रहे तैयारी

Posted By: Vinay Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप