इस्लामाबाद, एएनआइ। ईधन की कीमतों में लगातार वृद्धि के कारण पाकिस्तान के नागरिकों ने वाहनों का सीमित इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। शहबाज शरीफ सरकार ने एक महीने के भीतर चौथी बार पेट्रोल की कीमतों में प्रति लीटर 14.84 पाकिस्तानी रुपये की वृद्धि कर दी है। पेट्रोल की नई कीमत प्रति लीटर 248.74 पाकिस्तानी रुपये हो गई है।गैस आपूर्ति में कमी के कारण देश के वस्त्र उद्योग ने एक से आठ जुलाई तक बंद रखने का फैसला लिया है। गैस की कमी से वस्त्र उत्पादन में 30 प्रतिशत की गिरावट हो चुकी है और यह 50 प्रतिशत पर आ सकती है।

कोरोना की छठी लहर के बीच बाजार से दवाएं गायब

आइएएनएस के मुताबिक, खत्म हो रहे विदेशी मुद्रा भंडार के प्रबंधन में जुटा पाकिस्तान गंभीर आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। आर्थिक सुस्ती, महंगाई के बीच कोरोना वायरस फिर से सिर उठा रहा है। ऐसे में पाकिस्तान में दवाओं की काफी कमी हो गई है। देश में जब कोरोना महामारी की छठी लहर फैल रही है, तब रोगियों, नर्सो और डाक्टरों के इस्तेमाल में आने वाले नेबुलाइजर, फेस मास्क और दस्ताने आदि की भारी कमी हो गई है। कोरोना रोगियों के साथ ही अन्य बीमारियों की दवाएं बाजार से गायब हैं या ब्लैक में ऊंची कीमत पर मिल रही हैं। आपको बता दें कि बीते अप्रैल में सत्ता में आने के बाद से शहबाज शरीफ सरकार द्वारा पेट्रोलियम पदार्थो में यह चौथी बार बढ़ोतरी की गई है।

पाकिस्तानी सरकार का कदम-

पाकिस्तानी सरकार ने इससे पहले भी आइएमएफ के दबाव में राजकोषीय घाटे को कम करने के इरादे से ईंधन सब्सिडी को खत्म कर दिया था। इस चीज का ऐलान करते हुए पाकिस्तान के वित्त मंत्री मिफ्ताह इस्माइल ने कहा था कि सरकार पेट्रोलियम उत्पादों पर अब सब्सिडी देने की स्थिति में नहीं है। इसलिए इनकी कीमतों में उछाल देखा गया।

Edited By: Ashisha Rajput