Move to Jagran APP

Pak News: पूर्व पीएम इमरान खान ने किया दावा, बोले- "जनरल बाजवा ने एक्सटेंशन के बाद शरीफ के साथ किया समझौता"

पाकिस्तान के पूर्व पीएम इमरान खान ने दावा किया है कि जनरल बाजवा के कार्यकाल को आगे बढ़ाने के बाद से उनके व्यवहार में बदलाव आया है। साथ ही उन्होंने दावा किया है कि देश में ससे खराब हालात सिंध प्रांत के हैं।

By Jagran NewsEdited By: Shalini KumariPublished: Sun, 22 Jan 2023 10:48 AM (IST)Updated: Sun, 22 Jan 2023 10:48 AM (IST)
पाकिस्तान के पूर्व पीएम इमरान खान ने जनरल बाजवा को लेकर किया बड़ा दावा।

इस्लामाबाद, एएनआई। एक निजी चैनल के इंटरव्यू में पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने दावा किया है कि 2019 में सेना प्रमुख के रूप में विस्तार दिए जाने के बाद पाकिस्तान के पूर्व सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा के व्यवहार में बदलाव आया है। उन्होंने कहा, "जनरल बाजवा एक्सटेंशन के बाद बदल गए हैं और शरीफ के साथ समझौता कर लिया। बाद में जनरल बाजवा ने उन्हें राष्ट्रीय सुलह अध्यादेश (एनआरओ) देने का फैसला किया।"

हक्कानी की नियुक्ति मामले में पलड़ा झाड़ा

पूर्व प्रधानमंत्री खान ने यह भी दावा किया कि बाजवा ने संयुक्त राज्य अमेरिका में पाकिस्तान के तत्कालीन राजदूत के रूप में हुसैन हक्कानी को नियुक्त किया और बताया कि हक्कानी बिना किसी जानकारी के विदेश कार्यालय के माध्यम से इसमें शामिल हुए हैं। खान ने कहा, "जनरल बाजवा ने दुबई में हक्कानी से मुलाकात की और सितंबर 2021 में उन्हें काम पर रखा।"

खुद पर होने वाले हमले की थी जानकारी

इमरान खान ने कहा, "जनरल बाजवा बार-बार हमें अर्थव्यवस्था पर ध्यान केंद्रित करने और जवाबदेही के बारे में भूलने के लिए कहते थे।" अपने ऊपर किए गए हत्या के प्रयास के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा कि वह जानते थे कि पीएम शहबाज, आंतरिक मंत्री राना सनाउल्लाह और एक वरिष्ठ अधिकारी ने हमले की योजना बनाई थी।

पंजाब में विपक्ष और सरकार असंजस में

पंजाब में अंतरिम मुख्यमंत्री के लिए प्रस्तावित नामों पर बोलते हुए इमरान खान ने कहा कि उनकी पार्टी और सहयोगियों ने प्रांत में मुख्यमंत्री पद के लिए भरोसेमंद नाम दिए हैं। साथ ही उन्होंने दावा किया कि विपक्ष ने जिनके नाम दिए हैं उनमें एक पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के सह-अध्यक्ष आसिफ जरदारी का फ्रंटमैन है, जबकि दूसरा शहबाज शरीफ का फ्रंटमैन है। उन्होंने बताया कि खैबर पख्तूनख्वा में कार्यवाहक मुख्यमंत्री ने शपथ ले ली है, लेकिन पंजाब में विपक्ष और सरकार अभी भी नियुक्ति को लेकर असमंजस में हैं। जिसके परिणामस्वरूप, पाकिस्तान का चुनाव आयोग (ईसीपी) अब इस मामले का फैसला करेगा।

सिंध प्रांत की स्थिति देश में सबसे खराब

सिंध की समस्याओं पर टिप्पणी करते हुए, खान ने कहा कि फिलहाल इस प्रांत की स्थिति देश में सबसे खराब है। उन्होंने कहा, "पीपीपी के भ्रष्टाचार की वजह से सिंध पूरी तरह से बर्बाद हो गया है।" पूर्व प्रधानमंत्री ने सिंध और कराची के लोगों के शहर की स्थिति और प्रगति में होती देरी को देखते हुए उन्हें देश का सबसे उत्पीड़ित जनता करार दिया है। इमरान खान ने कहा कि वो जानते हैं कि उन्हें कराची जाना ही पड़ेगा।

यह भी पढ़ें: Economic Crisis: पाकिस्तान के लिए मुश्किलें बढ़ाने वाली खबर! अपनी सेवा बंद कर सकती है विदेशी शिपिंग कंपनियां

अल्पसंख्यक विरोधी साबित होगा पाकिस्तान में ईशनिंदा कानून में संशोधन, हिंदुओं का उत्पीड़न बढ़ने की आशंका


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.