मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

इस्लामाबाद, आइएएनएस। जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से ही पाकिस्तान बौखलाहट में है। इस बौखलाहट के बीच पाकिस्तान की एक और नौटंकी सामने आई है। पाकिस्तान ने अपनी इस नई नौटंकी में कश्मीर और कश्मीरी लोगों के नाम का इस्तेमाल किया है।बकरीद के मौके पर पाकिस्तानी चैनलों के ईद पर विशेष प्रोग्राम पर रोक लगा दी है। पाकिस्तान मीडिया नियामक प्राधिकरण ने मीडिया आउटलेट्स से कहा है कि वे बकरीद(ईद-उल-अज़हा) पर विशेष कार्यक्रमों को प्रसारित न करें क्योंकि यह न केवल पाकिस्तान की भावनाओं को बल्कि कश्मीरी के लोगों को भी आहत कर सकता है।

शनिवार को एक अधिसूचना में पाकिस्तान मीडिया नियामक प्राधिकरण ने कहा, 'कश्मीर के साथ एकजुटता को लेकर बकरीद को धार्मिक घटना के रूप में सादगी के साथ मनाया जाएगा। इसलिए यह अनुरोध किया जाता है कि कोई विशेष कार्यक्रम (पहले से रिकॉर्ड या नियोजित लाइव) न हो। बकरीद के जश्न के रूप में प्रसारित होने के कारण न केवल पाकिस्तान बल्कि कश्मीर के लोगों की भावनाओं को भी चोट पहुंच सकती है।' इस दिन पाकिस्तानी टीनी चैनलों को अपने लोगो ब्लैक एंड व्हाइट रखने की सलाह दी है।

पाकिस्तान का नया पैंतरा
पाकिस्तान टुडे की रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 14 अगस्त को पाकिस्तान का स्वतंत्रता दिवस कश्मीरियों के साथ मिलकर मनाएंगे।  इसी तरह, पाकिस्तानी मीडिया नियामक प्राधिकरण ने कहा कि 15 अगस्त जिस दिन भारत का स्वतंत्रता दिवस है उसे काला दिवस के रूप में मनाया जाएगा और इस दिन पाकिस्तान के राष्ट्रीय ध्वज को आधा झुकाया जाएगा। 

PAK डिबेट शो से भारतीयों का बहिष्कार
इससे पहले 8 अगस्त को इलेक्ट्रॉनिक मीडिया नियामक ने समाचार चैनलों को किसी भी प्रकार की टिप्पणियों और विश्लेषण के लिए अपने टॉक शो में किसी भी भारतीय सेलिब्रिटी, राजनेता, पत्रकार और विश्लेषकों को आमंत्रित नहीं करने का निर्देश दिया था।

पाकिस्तान का यह कदम भारत सरकार द्वारा 5 अगस्त 2019 को अनुच्छेद-370 को खत्म करने की घोषणा के बाद आया, जिसने जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा दिया और राज्य को विधायिका के साथ केंद्रशासित प्रदेश में बदल दिया। इसने लद्दाख को जम्मू कश्मीर से अलग कर दिया और उसे केंद्रशासित प्रदेश के रूप में स्थापित कर दिया।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Shashank Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप