Move to Jagran APP

Pakistan: पाकिस्तान में भी चीन जैसा सर्विलांस, अब फोन कॉल की भी निगरानी करेगी ISI; सरकार ने इस कारण उठाया कदम

पाकिस्तान की कुख्यात खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) अब राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर फोन कॉल की निगरानी कर सकेगी। प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने कैबिनेट बैठक के बाद यह फैसला लिया है। यह माना जा रहा है कि यह फैसला इंटरनेट मीडिया पर अंकुश लगाने की कड़ी में उठाया गया है। शहबाज सरकार ने मंगलवार को आईएसआई को इस संदर्भ में औपचारिक तौर पर अधिकार दे दिए।

By Jagran News Edited By: Sonu Gupta Tue, 09 Jul 2024 08:22 PM (IST)
पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI की बढ़ी ताकत। फाइल फोटो।

पीटीआई, इस्लमाबाद। पाकिस्तान की कुख्यात खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) की ताकत और बढ़ गई है। वह राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर फोन कॉल की निगरानी कर सकेगी। शहबाज सरकार ने मंगलवार को आईएसआई को इस संदर्भ में औपचारिक तौर पर अधिकार दे दिए।

ISI की बढ़ी ताकत

सूचना मंत्रालय ने इस बारे में पाकिस्तान दूरसंचार (पुनर्गठन) अधिनियम, 1996 के तहत अधिसूचना जारी की है। अधिसूचना में कहा गया है, 'अधिनियम की धारा 54 के तहत प्राप्त शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए संघीय सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा के हित में और किसी भी अपराध की आशंका में आइएसआइ को यह अधिकार देती है कि वह किसी भी फोन कॉल और संदेशों को इंटरसेप्ट और ट्रेस करेगी।'

कैबिनेट बैठक के बाद शहबाज शरीफ ने लिया फैसला

स्थानीय मीडिया के अनुसार, प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने कैबिनेट बैठक के बाद यह फैसला लिया है। यह माना जा रहा है कि यह फैसला इंटरनेट मीडिया पर अंकुश लगाने की कड़ी में उठाया गया है। पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ अपने समर्थकों से संपर्क के लिए इंटरनेट मीडिया का ही प्रयोग करती है। 

यह भी पढ़ेंः

Sikhs For Justice Ban: खालिस्तानी संगठन 'सिख्स फॉर जस्टिस' पर सरकार का बड़ा एक्शन, MHA ने 5 साल के लिए बढ़ाया प्रतिबंध

'भारत के नहीं हैं रोहिंग्या और बांग्लादेशी...', महाराष्ट्र पुलिस ने HC में किया नीतेश राणे का बचाव; ये है पूरा मामला