मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

इस्लामाबाद, प्रेट्र । यूएई द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'आर्डर ऑफ जायेद' से नवाजे जाने से पाकिस्तान तिलमिला गया है। मुस्लिम देशों से प्रधानमंत्री को मिले पुरस्कार इस्लामाबाद के लिए तमाचा साबित हो रहे हैं। पाकिस्तानी सीनेट के चेयरमैन सादिक सांजरानी ने रविवार को खाड़ी देश की अपनी सरकारी यात्रा रद करने की घोषणा की। एक दिन पहले शनिवार को प्रधानमंत्री को यूएई में सम्मानित किया गया था। यूएई सरकार के आमंत्रण पर सीनेट चेयरमैन 25 से 28 अगस्त तक संसदीय प्रतिनिधिमंडल के साथ दौरे पर जाने वाले थे।

प्रधानमंत्री मोदी को बहरीन ने भी किंग हमद आर्डर ऑफ रेनेसंस (पुनर्जागरण का शाह हमद सम्मान) से नवाजा है। पांच वर्षो के दौरान मुस्लिम देशों से उन्हें छह पुरस्कार मिल चुके हैं। यूएई ने अप्रैल में ही प्रधानमंत्री मोदी को अपना सर्वोच्च सम्मान देने की घोषणा की थी। इन पुरस्कारों को इस्लामिक दुनिया के साथ भारत के रिश्ते मजबूत करने में प्रधानमंत्री के प्रयासों के रूप में देखा जा रहा है। आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने के भारत के लगातार प्रयासों के बीच प्रधानमंत्री मोदी को ये पुरस्कार मिले हैं।

यूएई ने यह कहा है कि इस्लामिक विश्व के साथ नई दिल्ली के रिश्ते पहले से कहीं ज्यादा बेहतर हैं। नई दिल्ली में सरकार के शीर्ष सूत्रों ने कहा कि मुस्लिम दुनिया से इस तरह का व्यापक समर्थन पाकिस्तान के लिए जोरदार तमाचा है। वह भारत को खास तौर से इस्लामिक देशों से अलग-थलग करने का विफल प्रयास करता रहा है। अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने के बाद उसने काफी हायतौबा मचाई और मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

तीन देशों की यात्रा पर है पीएम मोदी

पीएम मोदी इन दिनों फ्रांस, संयुक्त अरब अमीरात और बहरीन की यात्रा पर हैं। भारतीय प्रधानमंत्री को 24 अगस्त को यूएई के सर्वोच्च नागरिक सम्मान‘ऑर्डर ऑफ जायेद’ से सम्मानित किया गया। पूर्व में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग को इस सम्मान से नवाजा जा चुका है।

ट्रंप से होगी पीएम मोदी की मुलाकात

बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्र प्रमुखों से बातचीत के दौरान आतंकवाद का भी मुद्दा उठाया। साथ ही दुनिया के बड़े देशों ने कहा है कि यह एक द्विपक्षीय मामला है और किसी देश को दखल देने की कोई जरूरत नहीं है। प्रधानमंत्री मोदी जी7 सम्मेलन में हिस्सा लेने फ्रांस पहुंचेंगे। खबर है कि वहां उनकी मुलाकात डॉनल्ड ट्रंप से भी होगी। ऐसे में हो सकता है कि कश्मीर के मुद्दे पर दोनों नेताओं के बीच बात हो।

कश्मीर मुद्दे को लेकर आईसीजे में जाने की पाक की धमकी

कश्मीर पर फैसले के बाद बौखलाए पाकिस्तान ने एक बार आईसीजे जाने की भी धमकी दी है। लेकिन भारत के राजनयिकों और प्रधानमंत्री मोदी ने दुनिया को यह बात बताई है कि कश्मीर का मामला भारत का आंतरिक मुद्दा है और संविधान के दायरे में रहकर इसपर फैसला किया गया है। वहीं पाकिस्तान यह जताने की कोशिश कर रहा है कि कश्मीर में लोग परेशान हैं। हालांकि अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद किसी बड़ी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है और घाटी के लोगों की जिंदगी धीरे-धीरे पटरी पर लौट आई है।

मुस्लिम देशों से मोदी को मिल रहे पुरस्कार पाक के लिए तमाचा
तीन देशों के दौरे पर निकले प्रधानमंत्री मोदी को यूएई ने सर्वोच्च नागरिक सम्मान आर्डर ऑफ जायेद और बहरीन ने किंग हमद आर्डर ऑफ रेनेसंस (पुनर्जागरण का शाह हमद सम्मान) से नवाजा है। पांच वर्षो के दौरान मुस्लिम देशों से मिले छह पुरस्कार इस्लामिक दुनिया के साथ भारत के रिश्ते मजबूत करने में प्रधानमंत्री के प्रयासों के साथ पाकिस्तान के लिए जोरदार तमाचा भी साबित हो रहे हैं। आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने के भारत के लगातार प्रयासों के बीच प्रधानमंत्री मोदी को ये पुरस्कार मिले हैं।

यूएई ने यह सुनिश्चित किया कि इस्लामिक विश्व के साथ नई दिल्ली के रिश्ते पहले से कहीं ज्यादा बेहतर हो गए हैं। सरकार के शीर्ष सूत्रों ने कहा कि मुस्लिम दुनिया से इस तरह का व्यापक समर्थन पाकिस्तान के लिए जोरदार तमाचा है।वह भारत को खास तौर से इस्लामिक देशों से अलग-थलग करने का विफल प्रयास करता रहा है। अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने के बाद उसने काफी हायतौबा मचाई और मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

मोदी को अभी तक मिले ये सम्मान
प्रधानमंत्री मोदी को अभी तक मिले सम्मानों में बहरीन से किंग हमद आर्डर ऑफ रेनेसंस (पुनर्जागरण का शाह हमद सम्मान), यूएई से आर्डर ऑफ जायेद, फलस्तीन से ग्रैंड कॉलर ऑफ दी स्टेट आफ फलस्तीन, अफगानिस्तान से आमीन अमानुल्लाह खान सम्मान, सऊदी अरब से किंग अब्दुलअजीज साश अवार्ड और मालदीव से रूल ऑफ निशान इज्जुद्दीनोन शामिल हैं।

Posted By: Sanjeev Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप