लाहौर, पीटीआइ। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को सोमवार देर रात उनकी हालत बिगड़ने पर लाहौर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उनकी हालत नाजुक बनी हुई है। इस बीच उनके बेटे हुसैन नवाज ने मंगलवार को आरोप लगाया कि उनके पिता को जेल में ज़हर देने की कोशिश की गई है। जिस वजह से उनकी हालत खराब हो गई है। हालांकि उन्होंने इस बात की सिर्फ आशंका जताई है।

हुसैन नवाज ने लंदन से ट्वीट करते हुए लिखा, ' मेरे ख्याल से मेरे पिता को जहर दिया गया होगा, क्योंकि जब उन्हें अस्पताल भेजा गया था तब उनके शरीर में प्लेटलेट्स काफी कम थे।' हुसैन ने इसके साथ ही इमरान खान सरकार पर भी हमला किया। उन्होंने कहा कि इमरान खान सरकार को अपनी ताजा मेडिकल रिपोर्ट के अनुसार नवाज शरीफ को गंभीर रूप से कम प्लेटलेट्स काउंट - 16,000 के बावजूद समय पर अस्पताल में स्थानांतरित नहीं करने का जवाब देना होगा।

हुसैन ने इमरान खान सरकार से सवाल करते हुए पूछा कि शरीर में प्लेटलेट्स की संख्या कम होने अपने आप में गंभीर है और इससे जान का खतरा होता है, लेकिन इसके बावजूद उनके पिता को अस्पताल क्यों नहीं भेजा गया ? क्या सरकार इसका जवाब देगी?

बता दें, डॉ. अयाज़ महमूद की अध्यक्षता वाले एक मेडिकल बोर्ड ने मंगलवार को अस्पताल में नवाज शरीफ़ की जांच की और इसके बाद उन्हें प्लेटलेट्स चढ़ाए गए।

बता दें, डॉ. अयाज़ महमूद की अध्यक्षता वाले एक मेडिकल बोर्ड ने मंगलवार को अस्पताल में नवाज शरीफ़ की जांच की और उन्हें प्लेटलेट्स चढ़ाए। डॉक्टरों ने कहा कि नवाज शरीफ की हालत अभी भी नाजुक है और वह तब तक अस्पताल में रहेंगे जब तक इसमें सुधार नहीं हो जाता।

69 साल के नवाज शरीफ 24 दिसंबर 2018 से 7 साल की जेल की सजा काट रहे हैं। उन्हें जवाबदेही अदालत ने उन्हें अल-अजीजिया स्टील मिल्स मामले में दोषी ठहराया था। उनपर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए हैं उच्चतम न्यायालय के 2017 के आदेश के बाद दायर तीन भ्रष्टाचार मामलों में से एक पनामा पेपर्स में उनका नाम आने के बाद उनपर कार्रवाई हुई।

Posted By: Shashank Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप