नई दिल्‍ली, जेएनएन। कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रोन ने दुनिया भर में कोहराम मचाया है। दुनिया में पिछले सप्‍ताह में कोरोना संक्रमण मामलों में 11 फीसद की वृद्धि हुई है। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने चेतावनी दी है कि ओमिक्रोन वैरिएंट से पैदा हुआ खतरा अभी बहुत ज्‍यादा है। दुनिया के 108 देशों में इस वैरिएंट का प्रसार हो चुका है। कई देशों में वायरस के प्रसार से गंभीर स्थिति बनी हुई है। इनमें से कई मुल्‍कों ने अपने देश में आंशिक लाकडाउन लगा दिया है। कई देशों ने अपने यहां कठोर प्रतिबंधों को लागू किया है। भारत के कुछ राज्‍यों में ओमिक्रोन ने कहर ढाया है। यह डेल्‍टा वैरिएंट से पांच गुना तेजी से फैल रहा है। आखिर वह कौन से मुल्‍क हैं, जिन्‍होंने अपने देश में आंशिक प्रतिबंध लगाया है। भारत ने ओमिक्रोन वैरिएंट के प्रसार को रोकने के लिए क्‍या उपाय किए हैं।

1- कनाडा में ओमिक्रोन वायरस ने विकराल रूप घारण कर लिया है। कनाडा के ओंटारियो और क्‍यूबेक ने बेहद सख्‍त लाकडाउन लगाए हैं। स्‍कूल और अन्‍य इनडोर एक्टिविटी पूरी तरह से बंद हैं। नियमों के उल्‍लंघन पर सख्‍त सजा का प्रावधान किया गया है। नियम तोड़ने पर छह हजार डालर का जुर्माना है।

2- यूरोपीय देश ब्रिटेन ओमिक्रोन से सबसे ज्‍यादा प्रभावित देशों में से एक है। ब्रिटेन में सरकार दुविधा में है। ब्रिटेन में लाकडाउन का जमकर विरोध हो रहा है। प्रधानमंत्री बोरिस जान्‍सन ने कहा है कि देश में स्‍कूल और व्‍यापारिक क्रियाकलाप बंद नहीं होंगे। यूरोपीय यूनियन के देशों ने बढ़ते कोरोना के बाद स्‍कूल और व्‍यापार बंद नहीं करने का फैसला किया है।

3- अमेरिका में कोरोना वायरस ने विकराल रूप धारण कर लिया है। अमेरिका में संघीय और राज्‍य सरकारें लाकडाउन लगाने से कतरा रही हैं। ओमिक्रोन के प्रसार के बावजूद आधे से ज्‍यादा राज्‍यों में व्‍यापारिक प्रतिष्‍ठान खुले हुए हैं। हालांकि, कुछ राज्‍यों में आंशिक पाबंदियां लगा रखी है। बता दें कि अमेरिका में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार तेजी से बढ़ रहे हैं। सोमवार को एक दिन में 13.5 लाख नए मामले सामने आए। किसी देश में एक दिन में इतनी बड़ी संख्या में मामले सामने आने का यह सबसे बड़ा मामला है। इससे पहले अमेरिका में ही इसी साल तीन जनवरी को दस लाख तीस हजार मामले सामने आए थे।

4- चीन में ओमिक्रोन का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। चीन के जियान शहर में 22 दिसंबर से सख्‍त लाकडाउन लगा है। कोरोना के प्रकोप के चलते चीन के तीन शहरों में लाकडाउन है। इसके चलते देश की करीब दो करोड़ आबादी घरों के अंदर कैद हो गई है। इसके अलावा शियान में 1.3 करोड़ लोग और युझोउ में 11 लाख लोग लाकडाउन की पाबंदियों के बीच रहेंगे। चीन के कुछ अन्‍य हिस्‍सों में भी सख्‍त पाबंदियां लगाई गई है। चीन में इन नियमों को तोड़ने पर जुर्माने का भी प्रावधान है। दूसरी लहर के बाद दक्षिण अफ्रीका में ओमिक्रोन वैरिएंट का पहला मामला सामने आया था। दक्षिण अफ्रीका में यह वैरिएंट तेजी से फैला। ओमिक्रोन वैरिएंट के प्रसार के दिनों में कुछ प्रतिबंध लगाए गए हैं।

आइसोलेशन और टीकाकरण सबसे बड़ा हथियार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्रियों को सलाह दी कि होम आइसोलेशन से जुड़े दिशानिर्देशों को सरकारें जारी करती रहें। साथ ही इसमें समय समय पर सुधार भी करें। इस दौरान टेस्टिंग, ट्रैकिंग और ट्रीटमेंट की व्यवस्था जितनी बेहतर होगी अस्पतालों पर बोझ उतना ही कम बढ़ेगा। पीएम मोदी ने कहा कि ओमिक्रोन से लड़ने के अलावा देश को भविष्य में आने वाले कोरोना के अन्‍य वैरिएंट से निपटने के लिए भी तैयार रहने की जरूरत है। उन्‍होंने कहा कि इसके अलावा हमें यह भी सुनिश्चित करना होगा कि होम आइसोलेशन में ज्यादा से ज्यादा इलाज हो। मोदी ने कहा कि महामारी से लड़ने में अब तक अपनाए गए सामूहिक दृष्टिकोण को केंद्र और राज्य सरकारों को जारी रखना चाहिए। कोविड महामारी के खिलाफ टीकाकरण सबसे बड़ा हथियार है। अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं और वरिष्ठ नागरिकों को जितनी जल्दी हम एहतियाती खुराक देंगे, हमारी स्वास्थ्य प्रणाली उतनी ही मजबूत होगी।

सात दिनों में 70 लाख केस

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि जनवरी के पहले सप्ताह में पूरे यूरोप में ओमिक्रोन वैरिएंट के 70 लाख से अधिक नए मामले सामने आए, जो केवल दो सप्ताह में दोगुने से अधिक हैं। यूरोप के 26 देशों ने बताया कि उनकी आबादी का एक फीसद से अधिक प्रत्येक सप्ताह कोरोना से संक्रमित हो रहा है। संगठन ने चेतावनी दी है कि अब देशों के लिए अपनी स्वास्थ्य प्रणालियों को चरमराने से रोकने के लिए प्रयास करना होगा।

Edited By: Ramesh Mishra