Move to Jagran APP

Sri Lanka Crisis: कर्ज में डूबे श्रीलंका के लिए आई अच्छी खबर, आईएमएफ ने मदद की पहली किश्त की जारी

श्रीलंका को अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की ओर से मदद की 33 करोड़ डॉलर की पहली किश्त मिली है। राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे के अनुसार यह कर्ज में डूबे देश के लिए बेहतर शासन हासिल करने का मार्ग प्रशस्त करेगा। File Photo

By Jagran NewsEdited By: Devshanker ChovdharyPublished: Thu, 23 Mar 2023 11:58 PM (IST)Updated: Thu, 23 Mar 2023 11:58 PM (IST)
आईएमएफ ने मदद की पहली किश्त की जारी।

कोलंबो, पीटीआई। श्रीलंका को अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की ओर से मदद की 33 करोड़ डॉलर की पहली किश्त मिली है। राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे के अनुसार, यह कर्ज में डूबे देश के लिए बेहतर शासन हासिल करने का मार्ग प्रशस्त करेगा।

तीन अरब डॉलर के बेलऑउट प्रोग्राम को मंजूरी

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की ओर से मंगलवार को तीन अरब डॉलर के बेलऑउट प्रोग्राम को मंजूरी दी गई थी, जिससे आर्थिक परेशानी झेल रहे श्रीलंका को इस संकट से बचाया जा सके। आईएमएफ के इस कदम का कोलंबो ने स्वागत किया है। आईएमएफ के कार्यकारी बोर्ड ने श्रीलंका के लिए विस्तारित कोष सुविधा के तहत 48 महीने की व्यवस्था को मंजूरी दी थी।

आर्थिक स्थिरता और ऋण स्थिरता को बहाल पर जोर

इस कार्यक्रम का उद्देश्य श्रीलंका की व्यापक आर्थिक स्थिरता और ऋण स्थिरता को बहाल करना है। साथ ही गरीबों और कमजोरों पर आर्थिक प्रभाव को कम करना, वित्तीय क्षेत्र की स्थिरता की रक्षा करना आदि शामिल हैं। श्रीलंका ने पिछले साल अप्रैल में आर्थिक संकट की घोषणा की थी।

यह विदेशी मुद्रा की कमी से शुरू हुआ था, जिसने सार्वजनिक विरोध को भड़का दिया था। जुलाई के मध्य में तत्कालीन राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे को पद से हटाने के लिए महीने भर तक विरोध प्रदर्शन हुआ था।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.