वेटिकन सिटी, एपी।Serial Blasts In Sri Lanka, पोप फ्रांसिस ने श्रीलंका में ईसाइयों और विदेशियों के ईस्टर संडे नरसंहार को नृशंस हिंसा कहते हुए निंदा की है। मारे गए लोग ईसाई कैलेंडर के अनुसार ईस्टर मनाने के लिए जुटे थे। फ्रांसिस ईस्टर मास में शामिल नहीं हुए लेकिन उन्होंने अपना पारंपरिक उर्बी एट ओर्बी भाषण दिया। उन्होंने मध्य पूर्व, अफ्रीका और अमेरिका में जारी संघर्ष को उजागर किया और राजनीतिक नेताओं से मतभेद भुलाकर शांति के लिए काम करने की मांग की। नेताओं से हथियारों की होड़ और उसका प्रसार खत्म करने की अपील की।

संबोधन के आखिर में फ्रांसिस ने श्रीलंका के होटलों और चर्चो पर हुए हमले की निंदा की। ईसाई समुदाय के लोगों ने जैसे ही ईस्टर मास मनाना शुरू किया वैसे ही हमले शुरू हुए। श्रीलंका के तीन चर्चो और तीन होटलों में एक के बाद एक धमाके हुए जिसमें अभी तक की सूचना के अनुसार 215 लोगों की मौत हो चुकी है। होटलों में विदेशी नागरिक ठहरे हुए थे।

चर्च और पांच सितारा होटलों को  बनाया गया निशाना
बता दें कि इस हमले में विभिन्न चर्च और पांच सितारा होटलों को निशाना बनाया गया। इन आतंकी हमलों में कम से कम 215 लोगों की मौत हो गई और 500 अन्य घायल हो गए। मरने वालों में 27 विदेशी हैं, जिसमें तीन भारतीय शामिल हैं। मामले में सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

इन चर्च और होटलों को बनाया निशाना
इन धमाकों में  सेंट एंथनी चर्च, कोलंबो, सेंट सेबेस्टियन चर्च, पश्चिम तटीय कस्बा नेगोंबो, सेंट माइकल चर्च, पूर्वी कस्बा बट्टीकलोआ चर्च को जबकि सांगरी ला, सिनामन ग्रैंड और किंग्सबरी होटल को निशाना बनाया गया। 

 

Posted By: Tanisk

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप