कीव, रायटर। यूक्रेन अंधेरे और ठंड की चपेट में है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने इस स्थिति के लिए रूस को जिम्मेदार बताते हुए उसे दंडित करने की मांग संयुक्त राष्ट्र से की है। बुधवार को हुए रूसी मिसाइलों हमलों के बाद यूक्रेन पिछले 50 साल का सबसे गंभीर बिजली संकट झेल रहा है। अंधेरे में डूबे कई शहरों का तापमान शून्य से नीचे चला गया है और सड़कों पर बर्फ जम गई है। दसियों लाख लोग भीषण ठंड में घरों में कैद होकर रह गए हैं। यह स्थिति तब है जब ठंड का चरम अभी कई हफ्ते दूर है।

कीव के कुछ इलाकों में बिजली और पानी की आपूर्ति शुरू

राजधानी कीव और उसके आसपास का क्षेत्र गंभीर बिजली संकट से जूझ रहा है। लेकिन गुरुवार को प्रशासन ने राजधानी के कुछ इलाकों में बिजली और पानी की आपूर्ति शुरू होने की जानकारी दी है। सार्वजनिक आवागमन के कार्य में लगी इलेक्ट्रिक बसों को बदला जा रहा है, उन्हें डीजल या पेट्रोल चालित बनाया जा रहा है। बुधवार के रूसी मिसाइल हमले में दस लोग मारे गए हैं और परमाणु बिजलीघरों में कामकाज रुक गया है। यूक्रेन सरकार का कहना है कि इन बिजलीघरों में अभी बिजली का उत्पादन नहीं हो रहा था।

जेलेंस्की ने रूस पर आतंक फैलाने का आरोप लगाया

राष्ट्रपति जेलेंस्की ने कहा है कि बुधवार को रूस ने कुल 70 मिसाइलें यूक्रेन के विभिन्न शहरों पर दागीं जिनमें से ज्यादातर को यूक्रेनी डिफेंस सिस्टम ने आकाश में ही नष्ट कर दिया। यूक्रेन मसले पर हुई संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात बैठक में राष्ट्रपति जेलेंस्की ने रूस पर आतंक फैलाने का आरोप लगाया। कहा कि नागरिकों की हत्या हो रही है और अस्पताल, स्कूल, यातायात के साधनों को निशाना बनाया जा रहा है। लेकिन जेलेंस्की के वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये बात कहने को नियमों का उल्लंघन करार देते हुए रूस ने चर्चा के प्रस्ताव पर वीटो लगाकर उसे रोक दिया। वैसे अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस सहित कई सदस्यों ने जेलेंस्की की बातों का समर्थन किया।

रूस पर नए प्रतिबंधों की तैयारी कर रहा ईयू

यूरोपीय संघ (ईयू) रूस पर एक बार फिर प्रतिबंध लगाने की तैयारी कर रहा है। यूक्रेन पर हमले के विरोध में ईयू नौवीं बार रूस पर प्रतिबंध लगाएगा। यह जानकारी ईयू की प्रमुख उर्सला वान डेर लिएन ने फिनलैंड में दी है। उन्होंने कहा, प्रतिबंधों का दायरा बढ़ाने के लिए हम कड़ी मेहनत कर प्रस्ताव तैयार कर रहे हैं और उसे जल्द पारित करा लिया जाएगा। लिएन ने कहा, उन्हें विश्वास है कि जी 7 देश भी जल्द रूसी तेल का मूल्य निश्चित करने के लिए कदम उठाएंगे।

Edited By: Arun kumar Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट