ब्राजीलिया, एजेंसी। ब्राजील में रविवार को राष्ट्रपति चुनाव में जमकर वोटिंग हुई। वोटिंग के बाद गिनती भी शुरू हो गई है। एक लंबे और विवादास्पद चुनावी अभियान के बाद मौजूदा राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो अपने प्रतिद्वंदी और पूर्व राष्ट्रपति लुइज इनासियो लूला डा सिल्वा से पीछे चल रहे हैं। दुनिया के चौथे सबसे बड़े लोकतंत्र में लोगों ने बदलाव लाने के संकेत दिए हैं। शुरुआती चुनाव परिणाम के अनुसार वामपंथी लूला आगे चल रहे हैं, दक्षिणपंथी बोल्सोनारो फिलहाल पीछे चल रहे हैं। वामपंथी सिरो गोम्स और मध्यमार्गी सिमोन टेबेट, वर्तमान में तीसरे और चौथे स्थान पर हैं।

लूला ने बनाई बढ़त

सुपीरियर इलेक्टोरल कोर्ट (टीएसई) ने अपनी वेबसाइट पर बताया कि 70 फीसद वोटिंग मशीनों की गिनती के बाद लूला के पास 45.7 फीसद वैध वोट हैं, जबकि बोल्सोनारो के पास 45.5 फीसद वोट हैं। बता दें कि यदि कोई भी उम्मीदवार खाली और खराब मतपत्रों को छोड़कर आधे से अधिक मतों से जीत नहीं दर्ज कर पाता है तो दो-चार सप्ताह में दूसरे दौर के मतदान में टाप दो उम्मीदवार आमने-सामने होंगे।

लूला को माना जा रहा पसंदीदा उम्मीदवार

लूला डा सिल्वा को इसबार सबसे पसंदीदा उम्मीदवार माना जा रहा है। कई ब्राजीलियाई तो उन्हें नापसंद होने के बावजूत वोट दे रहे हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे मौजूदा राष्ट्रपति को हटाना चाहते हैं। लूला 2003 से 2010 तक राष्ट्रपति के रूप में कार्य कर चुके हैं। 

घोटाले से जुड़ा नाम

कुछ मतदाता उन्हें लावा जाटो भ्रष्टाचार घोटाले में शामिल होने के कारण राष्ट्रपति पद के लिए अनुपयुक्त मानते हैं। बता दें कि लूला ने भ्रष्टाचार के आरोप में लगभग दो साल जेल में बिताए थे। हालांकि, इसके बाद वहां की सुप्रीम कोर्ट ने उनकी सजा को पलट दिया था।

यह भी पढ़ें- India-Brazil Relationship: विदेश मंत्री ने साओ पाउलो में भारतीय समुदाय से की मुलाकात, कहा- भारत और ब्राजील के संबंध सद्भावना और सहयोग पर आधारित

Edited By: Mahen Khanna

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट