ज्यूरिख/नई दिल्ली, एजेंसी।स्विस बैंक में भारतीय नागरिकों और उद्यमियों द्वारा काला धन के मामले में भारत एक स्थान नीचे 74वें नंबर आ गया है। अल्पाइन राष्ट्र के केंद्रीय बैंकिंग अथॉरिटी ने यह आंकड़े जारी किए हैं। इस रिपोर्ट में यूके (UK) ने अपना शीर्ष स्थान बरकरार रखा है।भारत पिछले साल 73 वें स्थान पर था, भारत अपने 88वें स्थान से 15 स्थान की छलांग लगाने के बाद यहां तक पहुंचा था।

स्विट्जरलैंड स्थित बैंक द्वारा जारी आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। पिछले साल भारत 15 पायदान की छलांग के साथ सूची में 73वें स्थान पर था। स्विस नैशनल बैंक (एसएनबी) द्वारा जारी सालाना बैंकिंग आंकड़ों के नवीनतम विश्लेषण के मुताबिक, जब बात स्विस बैंक में भारतीयों और भारतीय उपक्रमों द्वारा जमा कुल धन की आती है तो इसमें यह काफी पीछे है और इस बैंक में विदेशियों द्वारा जमा कुल धन का महज 0.07% है। जबकि, दूसरी तरफ इस बैंक में धन जमा करने के मामले में ब्रिटेन के लोग शीर्ष पर हैं और 2018 के अंत तक इस बैंक में जमा कुल 26% धन ब्रिटेन के लोगों का है।

स्विस बैंक में किन देशों का कितना पैसा जमा है ?
स्विस बैंक में जमा धन के मामलों में ब्रिटेन पहले नंबर पर है। वहीं इस रैंकिंग में दूसरे स्थान पर अमेरिका, तीसरे स्थान पर वेस्ट इंडीज, चौथे स्थान पर फ्रांस तथा पांचवें स्थान पर हांगकांग है। ये पांच देश, स्विस बैंक में जमा कुल कालेधन का 50% से अधिक धन रखते हैं। वहीं स्विस बैंक में जमा लगभग एक तिहाई पैसा टॉप 10 देशों के नागरिकों का है। टॉप 10 देशों के अन्य देशों में बहामास, जर्मनी, लक्जमबर्ग, कायमान आइलैंड्स और सिंगापुर शामिल हैं। 

ब्रिक्स देशों में सबसे पीछे भारत
स्विस बैंक में धन जमा करने के मामले में ब्रिक्स देशों में भारत सबसे पीछे है, जबकि रूस सबसे ऊपर (20वें स्थान पर), चीन 22वें स्थान पर, दक्षिण अफ्रीका 60वें स्थान पर तथा ब्राजील 65वें स्थान पर है। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप