नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। समुद्र हो या विशाल नदी या बहुत ऊंचा झरना, वॉटर बॉडी हमेशा से पर्यटकों को आकर्षित करती रहीं हैं। कभी लोग समुद्र के नीले रंग पर सर्फिंग करने जाते हैं तो कभी बहुत ऊंचाई से गिरने वाले झरने के शोर का आनंद उठाने। ये पानी का अलग-अलग रूप है, लेकिन रंग अमूमन एक ही होता है। ऐसे में अगर पानी का रंग ही अलग हो तो दुनिया भर पर्यटकों के लिए वह अपने आप आकर्षण का केंद्र बन जाता है।

यहां हम बात कर रहे हैं मेलबर्न, ऑस्ट्रेलिया के वेस्टगेट पार्क में मौजूद हिलर लेक की, जो पिंक लेक या सलाइन लेक के नाम से पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। इस झील का पानी गुलाबी होने के कारण ये दुनिया भर के पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। दूर-दूर से लोग इस झील को देखने और बोटिंग करने आते हैं। इस झील का क्षेत्रफल मात्र 600 वर्ग मीटर है, इसलिए ये दुनिया की सबसे छोटी और खूबसूरत झील में शामिल है। झील के चारों तरफ लगे पेपरबार्क और यूकेलिप्टस के पेड़ इसकी खूबसूरती को चार चांद लगाते हैं।

औद्योगिक क्षेत्र में है पिंक लेक

पिंक लेक, मेलबर्न के औद्योगिक क्षेत्र में मौजूद है। इसलिए लोगों को पहले लगता था कि यहां का पानी औद्योगिक कचरे से प्रदूषित होकर गुलाबी हो जाता है। लिहाजा काफी समय तक इस झील के पानी को खतरनाक माना जाता था। हालांकि बाद में वैज्ञानिकों ने जब झील के पानी का रंग गुलाबी होने की वजह तलाशी तो ये दुनिया के सबसे अनोखे नेचर टूरिज्म क्षेत्र में शामिल हो गया।

नुकसानदायक नहीं है पिंक लेक

इस झील के पानी में काफी मात्रा में नमक, एल्गी और बैक्टीरिया है। इसमें नमक की मात्रा जब काफी बढ़ जाती है तो इसका पानी पिंक हो जाता है। इसके रंग बदलने की तीन और मुख्य वजहें मानी जाती हैं और वो है यहां का उच्च तापमान, सूर्य की तेज रोशनी और झील में जमा होने वाला बारिश का पानी। विशेषज्ञों के अनुसार एल्गी और बैक्टीरिया होने के बावजूद इस झील का पानी इंसानों और जानवरों के लिए नुकसानदायक नहीं है। इस वजह से काफी संख्या में लोग यहां तैराकी और बोटिंग का मजा लेने आते हैं।

सोशल मीडिया पर छाईं खुबसूरत तस्वीरें

अपनी खूबसूरती की वजह से पिंक लेक सोशल मीडिया पर छाई हुई है। कुछ साल में ही ये लेक दुनिया भर में मशहूर हो चुकी है। पहली बार इस गुलाबी झील का पता 2012 की सर्दियों में चला था। हालांकि, इस झील को कई वर्ष पहले बनाया गया था। बताया जाता है कि हर साल सर्दियों के मौसम में इस झील का रंग गुलाबी हो जाता है। हालांकि सोशल मीडिया पर इस लेक की फोटो देखने वाले बहुत से लोगों को लगता है कि ऐसा संभव नहीं हो सकता और कैमरा फिल्टर के जरिए झील का रंग पिंक किया गया है।

पिंक लेक की भरमार है यहां

ऑस्ट्रेलिया में इस तरह की कई गुलाबी झील मौजूद हैं। विक्टोरिया के उत्तर-पश्चिम में नमक की कई झीलें मौजूद हैं, जिनका पानी खास सीजन में चमत्कारी रूप से गुलाबी हो जाता है। मुरेय सनसेट नेशनल पार्क (Murray Sunset National Park) में क्रॉसबी झील (Crosbie Lake), बेकिंग झील (Becking Lake), केन्योन झील (Kenyon Lake) और हार्डी झील (Hardy Lake) पर्यटकों को सबसे ज्यादा आकर्षित करती हैं। डिंबूला (Dimboola) के पास मौजूद गुलाबी झील भी काफी प्रसिद्ध है।

समुंद्री झील (Sea Lake) के पास मौजूद टाइरेल झील (Tyrrell Lake) विक्टोरिया की सबसे बड़ी नमक की झील है, जो पर्यटकों के लिए मुख्य आकर्षण है। पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में भी इस तरह की कई पिंक झील मौजूद हैं। यहां एसपेरेंस (Esperance) के नजदीक मौजूद हिलर झील (Hillier Lake) और हट लगून (Hutt Lagoon Lake) झील सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है। हट लगून हर साल सैकड़ों पर्यटकों को आकर्षित करती है। खास तौर पर चीनी यात्रियों के लिए इस झील की यात्रा करना स्टेटस सिंबल बन चुका है।

यह भी पढ़ें-

अफजल गुरु के बेटे ने कहा- भारतीय होने पर गर्व है, मां ने आतंकवादी बनने से बचा लिया

दुनिया के 30 सबसे प्रदूषित शहरों में से 22 भारत के, प्रदूषित देशों में भारत का तीसरा स्थान

केवल छह देशों में महिलाओं को है पूर्ण अधिकार, भारतीय उपमहाद्वीप में पाक सबसे पीछे

जानें भारतीय सेना की उन खास रेजिमेंट्स के बारे में जिनके उदघोष से सिहर उठता है दुश्‍मन

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस