Move to Jagran APP

युद्ध रोकने को छटपटाया हमास! सीजफायर रोकने के लिए इजरायल के जवाब का इंतजार कर रहा आतंकी समूह

तीन चरणों वाली यह योजना मई के अंत में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने प्रस्तावित की थी। वहीं हमास और इजरायल के बीच सीजफायर को रोकने के लिए कतर और मिस्र मध्यस्थता कर रहे हैं। इसका उद्देश्य युद्ध को रोकना और हमास द्वारा बंधक बनाए गए लगभग 120 इजरायली बंधकों को मुक्त कराना है। वहीं एक फलस्तीनी अधिकारी ने बताया कि इजरायल कतर के साथ बातचीत कर रहा है।

By Agency Edited By: Abhinav Atrey Sun, 07 Jul 2024 04:14 PM (IST)
इजरायल कतर के साथ बातचीत कर रहा- फलस्तीनी अधिकारी (फाइल फोटो)

रॉयटर्स, काहिरा। इजरायल हमास से निर्णायक लड़ाई में लगातार हमले कर रहा है, जिसमें बड़ी तादात में लोगों की जानें जा रही हैं। इस बीच जंग रोकने के लिए हमास की प्रतिक्रिया आई है। हमास ने कहा कि वह युद्ध विराम प्रस्ताव पर इजरायल की प्रतिक्रिया का इंतजार कर रहा है।

हमास की तरफ से उसके अधिकारियों ने रविवार को कहा कि पांच दिन पहले ही संगठन ने युद्ध को खत्म करने के लिए अमेरिका के एक प्रस्ताव को स्वीकार किया था। हमास ने कहा कि हमने अपना जवाब मध्यस्थों के पास छोड़ दिया है और इजरायल की प्रतिक्रिया सुनने का इंतजार कर रहे हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने प्रस्तावित की थी योजना

दरअसल, तीन चरणों वाली यह योजना मई के अंत में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने प्रस्तावित की थी। वहीं, हमास और इजरायल के बीच सीजफायर को रोकने के लिए कतर और मिस्र मध्यस्थता कर रहे हैं। इसका उद्देश्य युद्ध को रोकना और हमास द्वारा बंधक बनाए गए लगभग 120 इजरायली बंधकों को मुक्त कराना है।

इजरायल कतर के साथ बातचीत कर रहा- फलस्तीनी अधिकारी

वहीं, एक फलस्तीनी अधिकारी ने बताया कि इजरायल कतर के साथ बातचीत कर रहा है। इजरायल ने कतर के साथ हमास की प्रतिक्रिया पर भी चर्चा की है। कतर ने कुछ दिनों के भीतर इजरायल की प्रतिक्रिया देने का वादा किया है।

हमास ने एक प्रमुख मांग छोड़ी

हालांकि, इजरायल सरकार ने इस बातचीत की टाइमिंग पर कोई टिप्पणी नहीं की है। इस बीच हमास ने एक प्रमुख मांग छोड़ दी है कि इजरायल किसी समझौते पर हस्ताक्षर करने से पहले स्थायी युद्धविराम के लिए प्रतिबद्ध हो। फलस्तीनी अधिकारी ने कहा है कि अगर इजरायल इस प्रस्ताव को मान लेता है तो यह सीजफायर समझौते की तरफ ले जा सकता है और युद्ध खत्म हो सकता है।

ये भी पढ़ें: Imran Khan: जेल में ही रहेंगे इमरान खान, एंटी टेररिस्ट कोर्ट ने पूर्व पीएम की जमानत याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा