बीजिंग, एएनआइ। बीजिंग की महत्वाकांक्षी बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (Belt And Road Initiative) परियोजनाओं पर चीन और नेपाल के बीच हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन (MoU) की एक एक्सेस कापी से बड़ा खुलासा हुआ है। एक्सेस कापी से पता चलता है कि चीन कैसे इन परियोजनाओं के माध्यम से नेपाल में आर्थिक आधिपत्य जमाना चाहता है। स्थानीय मीडिया ने यह जानकारी दी। एमओयू पर हस्ताक्षर करने के इतने वर्षों के बाद भी इन BRI परियोजनाओं को क्षितिज पर कहीं नहीं देखा गया। एमओयू की एक प्राप्त प्रति ने चीन और उसके द्वारा नेपाल की अर्थव्यवस्था पर अपनी मुद्रा और मुक्त व्यापार प्रावधानों के साथ हावी होने के प्रयासों का पर्दाफाश किया है।

नेपाल और चीन ने दस्तावेज को नहीं किया सार्वजनिक

विशेष रूप से, मई 2017 में, नेपाल और चीन की सरकार ने चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव पर एक समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए। हालांकि, इन सभी पांच वर्षों में न तो नेपाल और न ही चीन ने दस्तावेज को सार्वजनिक किया। इस बीच, खबरहुब ने दोनों देशों के बीच व्यापक रूप से चर्चित बीआरआइ पर एमओयू की एक प्रति प्राप्त की है।

  • नेपाल के स्थानीय मीडिया आउटलेट द्वारा एमओयू की सामग्री के विश्लेषण के अनुसार, चीन ने अपने बीआरआइ समझौते के माध्यम से मुक्त व्यापार कनेक्टिविटी के नाम पर नेपाल में अपने आर्थिक आधिपत्य, शर्तों और निहित स्वार्थ को थोपने का प्रयास किया है।
  • प्राप्त एमओयू से पता चला कि बीआरआइ पर नेपाल और चीन दोनों द्वारा हस्ताक्षरित दस्तावेज चीन की ओर से एक स्पष्ट इशारा है कि वह न केवल नेपाल की अर्थव्यवस्था पर हावी होने, उस पर कब्जा करने और नेपाल में अपनी मुद्रा का उपयोग करने की कोशिश कर रहा है, बल्कि यह भी कोशिश कर रहा है कि बिना किसी सीमा शुल्क के माल को नेपाल में बेचा जा सके।
  • दस्तावेज में, BRI के सिद्धांतों के तहत 'पारस्परिक रूप से लाभकारी क्षेत्रों पर सहयोग को बढ़ावा देने' के नाम पर नेपाल में अपना एकाधिकार थोपने का चीन का प्रयास स्पष्ट रूप से दिखाई देता है।

विशेषज्ञों ने जताई चिंता

नेपाल के इस दस्तावेज़ को सार्वजनिक न कर पाने पर विशेषज्ञों ने चिंता जताई है। राजनीतिक विश्लेषक सरोज मिश्रा को संदेह है कि दस्तावेज को सार्वजनिक नहीं करने के लिए नेपाल पर चीन का भारी दबाव हो सकता है। मिश्रा ने कहा, 'जब तक यह बहुत संवेदनशील और सुरक्षा से संबंधित दस्तावेज नहीं है, तब तक प्रत्येक नेपाली नागरिक को सूचना के अधिकार का प्रयोग करने का अधिकार है।' उन्होंने इस बात पर भी चिंता जताई कि सरकार को इसे सार्वजनिक करने से क्या रोक रहा है।

चीन ने कही यह बात

चीन ने समझौता ज्ञापन में यह कहते हुए अपना खंड लगाया है कि दोनों पक्ष 'रेलवे, सड़क, नागरिक उड्डयन, पावर ग्रिड, सूचना और संचार सहित सहित सीमा पार बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को संयुक्त अध्ययन और बढ़ावा देने के माध्यम से पारगमन परिवहन, रसद प्रणालियों, परिवहन नेटवर्क सुरक्षा और संबंधित बुनियादी ढांचे के विकास पर सहयोग बढ़ाकर कनेक्टिविटी के लिए सहयोग को मजबूत करेंगे।

एक भी प्रोजेक्ट पर नहीं हुआ काम

इसके अलावा, दस्तावेज़ के अनुसार, एमओयू को उसके बाद एक और तीन साल के लिए स्वत: नवीनीकृत किया जाएगा जब तक कि वर्तमान एमओयू की समाप्ति से पहले कम से कम तीन महीने पहले लिखित नोटिस देकर किसी भी पक्ष द्वारा समाप्त नहीं किया जाता है। भले ही 2017 में MoU पर हस्ताक्षर करते समय यह कहा गया था कि MoU हस्ताक्षर करने की तारीख से प्रभावी होगा और तीन साल के लिए वैध रहेगा, लेकिन हकीकत यह है कि एक भी प्रोजेक्ट पर काम नहीं हुआ है।

एमओयू खत्म करने के लिए तीन महीने पहले देना होगा नोटिस

एमओयू के अनुसार, जब आवश्यक हो, दो पक्ष एमओयू को संशोधित और पूरक करेंगे और लिखित रूप में किसी भी सहमत संशोधन को इस एमओयू का एक अभिन्न अंग माना जाएगा। एमओयू में यह भी उल्लेख है कि कोई भी पक्ष इस एमओयू को समाप्त करने का इरादा रखता है तो एमओयू की समाप्ति से कम से कम तीन महीने पहले एक राजनयिक चैनल के माध्यम से दूसरे पक्ष को लिखित नोटिस देगा।

Edited By: Achyut Kumar