वाशिंगटन (एएनआई)। अमेरिका ने ब्रिटेन के विदेश विभाग द्वारा किए गए उस दावे पर चिंता जाहिर की है जिसमें कहा गया है कि यूक्रेन में रूस एक ऐसे नेता को शीर्ष पर बिठाना चाहता है जो रूस का समर्थक हो। यूएस नेशनल सिक्‍योरिटी काउंसिल के प्रवक्‍ता एमिली होर्ने ने इस बात की जानकारी दी है। उनके मुताबिक ब्रिटेन के विदेश और कामनवैल्‍थ एंड डेवलेपमेंट आफिस की तरफ से शनिवार को एक बयान में कहा गया था कि रूस की सरकार यूक्रेन में रूसी समर्थक को सत्‍ता के शीर्ष पर बिठाना चाहती है। इसके लिए रूस ने सबसे अधिक सुयोग्‍य व्‍यक्ति के रूप में यूक्रेनियन पार्लियामेंट के सदस्‍य येवहेन मुरायेव का चयन भी कर लिया है।

ब्रिटेन के विदेश मंत्रालय ने ये भी दावा किया है कि रूस की खुफिया एजेंसी ने यूक्रेन के रूसी समर्थक माने जाने वाले कई नेताओं से कई बार इस बारे में संपर्क भी किया है। इसतके यूक्रेन के पूर्व प्रधानमंत्री मेकोला अजारोव भी शामिल हैं। हालांकि इस दावे के समर्थन में किसी तरह का कोई भी सुबूत पेश नहीं किया गया है।

न्‍यूयार्क टाइम्‍स में छपी एक खबर के हवाले से कहा गया है कि होर्ने ने कहा है कि रूस का इस तरह का षड़यंत्र चिंता में डालने वाला कदम है। यूक्रेन के लोगों को ये अधिकार है कि वो अपने पसंद के नेता का चयन करें और अपने भविष्‍य का फैसला लें। वहीं दूसरी तरफ रूस ने ब्रिटेन के बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है। रूस के विदेश मंत्रालय का कहना है कि ये गलत खबर ब्रिटेन के विदेश विभाग द्वारा फैलाई जा रही है। ये नाटो देशों का एक और सुबूत है कि वो इस तरह की गलत खबरों से यूक्रेन में तनाव को बढ़ाना चाहते हैं। ब्रिटेन को इस तरह की खबरों को रोकना चाहिए। इस तरह की खबरें पूरी तरह से मनघड़ंत हैं।

रूस के विदेश मंत्रालय की प्रवक्‍ता मारिया जखारोवा ने इससे पहले शनिवार को कहा था कि मास्‍को बीजिंग ओलंपिक संध्‍या से पूर्व यूक्रेन में पश्चिमी देशों द्वारा फैलाई जा रही कोशिशों को नाकाम करना चाहता है। बता दें कि गुरुवार को अमेरिका ने एक फैक्‍टशीट जारी की थी जिसमें कहा गया था कि रूस यूक्रेन के बारे में गलत खबरें फैलाने की कोशिश में है।

Edited By: Kamal Verma