वाशिंगटन, एएनआई: अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने मंगलवार को अपने यूक्रेनी समकक्ष वोलोदिमीर जेलेंस्की से फोन पर बात की। उन्होंने कहा कि यूक्रेन के क्षेत्रों को रूस में शामिल करने के फैसले को वाशिंगटन कभी भी मान्यता नहीं देगा। उन्होंने युद्ध से तबाह यूक्रेन को सैन्य सहायता के तौर पर अतिरिक्त 62.5 करोड़ डालर देने की भी घोषणा की। इस सुरक्षा सहायता पैकेज के तहत अतिरिक्त हथियार और सैन्य उपकरण दिए जाएंगे।

व्हाइट हाउस के एक बयान के अनुसार, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन और उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की से बात की और यूक्रेन का समर्थन जारी रखने का अपना संकल्प दोहराया है। इस दौरान बाइडन ने यूक्रेन को दिए जाने वाले सहायता पैकेज के नवीनतम पैकेज पर विवरण भी प्रदान किया, जिसमें हाई मोबिलिटी आर्टिलरी रॉकेट सिस्टम, या HIMARS, आर्टिलरी सिस्टम गोला बारूद और बख्तरबंद वाहन शामिल हैं।

रूस ने यूक्रेनी शहरों पर तेज किए मिसाइल हमले

यूक्रेनी सेना द्वारा पूर्व व दक्षिण में जवाबी हमले के बाद रूसी सेना ने यूक्रेनी शहरों पर मिसाइल हमले तेज कर दिए। यूक्रेनी राष्ट्रपति के कार्यालय ने बताया कि रूसी हमलों में कम से कम पांच नागरिकों की मौत हो चुकी है, जबकि 10 से ज्यादा घायल हुए हैं। खार्कीव क्षेत्र के एक अस्पताल पर हमले में एक डाक्टर की मौत हो गई, जबकि दो नर्स घायल हो गईं। नीपर नदी के पार निकोपोल में भारी गोलाबारी के कारण 30 से अधिक घर, एक स्कूल कई स्टोर क्षतिग्रस्त हो गए।

पूर्व की ओर बढ़ी यूक्रेनी सेना

वाशिंगटन स्थित इंस्टीट्यूट फार द स्टडी आफ वार ने अपने नए आकलन में कहा कि डोनेस्क के लाइमैन को अपने नियंत्रण में लेने के बाद यूक्रेनी सेना पूर्व की ओर बढ़ रही है। हो सकता है कि वह क्रेमिना की ओर बढ़ते हुए पड़ोसी लुहांस्क की सीमा तक जाए। रूस के कब्जे वाले पूर्व व दक्षिणी क्षेत्र में यूक्रेन की बढ़त इसलिए भी उल्लेखनीय है, क्योंकि वहां के रूसी सैनिक पारंपरिक युद्ध में दक्ष माने जाते हैं। यूक्रेनी सेना की दक्षिणी कमान ने देर रात बताया कि उसने 31 रूसी टैंक व एक बहुद्देश्यीय राकेट लांचर नष्ट कर दिए।

Edited By: Amit Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट