वाशिंगटन, एजेंसी। नासा का ओरियन अंतरिक्ष यान मून मिशन पूरा करने के बाद पृथ्वी की ओर रवाना हो गया है। जानकारी के अनुसार, नासा का ओरियन अंतरिक्ष यान सोमवार को चंद्रमा के करीब से गुजरा और उसने पृथ्वी की ओर लौटने के लिए गुरुत्वाकर्षण सहायता का उपयोग किया, जिससे आर्टेमिस-1 मिशन के लिए वापसी की यात्रा शुरू हो गई है।

30 मिनट तक नहीं हो पाया संपर्क

बिना चालक दल वाले नासा के ओरियन अंतरिक्ष यान ने अपने निकटतम बिंदु से 80 मील (130 किलोमीटर) से कम की उड़ान भरी। हालांकि, इस दौरान कैप्सूल के साथ संचार 30 मिनट के लिए बाधित हो गया था, जब यह चंद्रमा के करीब पहुंच गया था।

क्या बोले ओरियन प्रोग्राम के डिप्टी मैनेजर डेबी कोर्थ

ओरियन प्रोग्राम के डिप्टी मैनेजर डेबी कोर्थ ने कहा अंतरिक्ष यान कैसा प्रदर्शन कर रहा है, इसके बारे में हम इससे ज्यादा खुश नहीं हो सकते। उन्होंने कहा एक बार जब संचार बहाल हो गया तो शानदार फुटेज उनकी स्क्रीन पर चमकने लगी। कमरे में मौजूद हर शख्स इस फुटेज को देखता ही रह गया। उन्होंने कहा कि ये पल बताता है कि हम चांद को अलविदा कह रहे हैं।

16 नवंबर को भरी थी उड़ान

बता दें कि सोमवार को मिशन का आखिरी दिन था। नासा के मेगा मून रॉकेट एसएलएस ने 16 नवंबर को फ्लोरिडा से उड़ान भरी थी। शुरू से अंत तक ये यात्रा करीब साढ़े 25 दिनों तक चली है। उल्लेखनीय है कि ओरियन अंतरिक्ष यान रविवार 11 दिसंबर को स्थानीय समयानुसार सुबह 9:40 बजे सैन डिएगो से दूर प्रशांत महासागर में लैंड कर सकता है। जिसके बाद इसे अमेरिकी नौसेना के जहाज पर चढ़ाया जाएगा।

ओरियन ने चंद्रमा के चारों ओर बिताए लगभग 6 दिन

इससे पहले मिशन के दौरान ओरियन ने चंद्रमा के चारों ओर दूरस्थ रेट्रोग्रेड कक्षा में लगभग छह दिन बिताए। जिसका मतलब है कि उच्च ऊंचाई और चंद्रमा की दिशा के विपरीत यात्रा करना। एक सप्ताह पहले, ओरियन ने हमारे ग्रह से 280,000 मील (450,000 किलोमीटर) की दूरी का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। आर्टेमिस मिशन मैनेजर माइक सराफिन ने कहा, एक बार जब यह पृथ्वी पर वापस आ जाएगा, तो ओरियन 1.4 मिलियन मील से अधिक की यात्रा कर चुका होगा।

NASA के ओरियन अंतरिक्ष यान ने करीब से की चंद्रमा की परिक्रमा

Edited By: Mohd Faisal

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट