केप कानावेरल, एपी। नासा ने गुरुवार रात को एक सैटेलाइट लांच किया। यह सैटेलाइट रहस्‍यमयी और गतिशील क्षेत्र का पता लगाएगा । साथ ही इसे अंतरिक्ष व पृथ्‍वी के मौसम के बीच का लिंक पता करना है। नासा का यह मिशन 2 साल की देरी से शुरू हुआ है।

कहां मिलती है अंतरिक्ष और हवा बताएगा सैटेलाइट

आयोनोस्‍फेरिक कनेक्‍शन एक्‍सप्‍लोरर (ICON) स्‍पेसक्राफ्ट को रात दस बजे लांच किया गया। नासा के इस मिशन को इस तरह तैयार किया गया है कि यह पृथ्‍वी के ऊपरी वातावरण का अध्‍ययन करेगा। नासा की सैटेलाइट आइकन पता लगाएगी कि कहां पर अंतरिक्ष और हवा का मेल होता है। दरअसल इसे लांच करने में दो साल की देरी हो गई।  

आयोनोस्‍फेयर का करेगा अध्‍ययन

पृथ्‍वी की कक्षा में ICON  अपना रास्‍ता बनाएगा ताकि यह  आयोनोस्‍फेयर का अध्‍ययन कर सके।  इसके अध्‍ययन की मदद से वैज्ञानिकों को अंतरिक्ष व पृथ्‍वी के मौसम  के बीच के लिंक को समझेंगे। साथ ही यह भी पता लगाएंगे कि आयोनोस्‍फेयर में दोनों का आपसी तालमेल कैसा है। यह जानकारी मिशन के सदस्‍यों ने दी। 

सैंकड़ों मील तक फैला है आयोनोस्‍फेयर

आइकन नाम का सैटेलाइट रिलीज होने के पांच सेकेंड के बाद इसमें लगा पेगासस रॉकेट प्रज्‍वलित हुआ और सैटेलाइट 'आइकन' को इसकी राह पर आगे भेज दिया। वायुमंडल के ऊपरी सतह का चार्ज किया गया हिस्‍सा आयोनोस्‍फेयर है। यह सैंकड़ों मील तक फैला हुआ है।

आइकन के साथ चार इंस्‍ट्रूमेंट्स

आइकन के साथ चार इंस्‍ट्रूमेंट्स को भी अंतरिक्ष में भेजा गया है। इसमें से एक उपकरण हवा की गति और तापमान मापेगी, एक आयनों की गति और दो अल्‍ट्रावॉयलेट कैमरे आयन से निकलने वाले प्रकाश को मापने के लिए भेजे गए हैं।        

यह भी पढ़ें: NASA के इनसाइट LANDER ने मंगल ग्रह पर रिकॉर्ड की थीं अजीबोगरीब आवाजें, आप भी सुनें

यह भी पढ़ें: नासा इसी माह पहली बार महिलाओं की टोली को कराएगा स्पेसवॉक, तैयारी पूरी

Posted By: Monika Minal

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप