मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संयुक्त राष्ट्र, पीटीआइ। संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत ने कहा कि आज बांग्लादेश के साथ भारत के संबंध पहले से बेहतर हैं और ये सब बांग्लादेश के फाउंडर बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान द्वारा दी गई विरासत की वजह से है। सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि बांग्लादेश के साथ हमारे संबंध आज पहले से कहीं बेहतर हैं और यह बंगबंधु की वजह से हुआ है।

अकबरुद्दीन ने ये बात पिछले हफ्ते बांग्लादेश के संस्थापक पिता मुजीबुर रहमान की 44वीं पुण्यतिथी के के अवसर पर बांग्लादेश के स्थायी मिशन द्वारा आयोजित एक स्मारक कार्यक्रम में कही थी।उन्होंने आगे कहा कि मुजीबुर रहमान की बेटी प्रधान मंत्री शेख हसीना उनके इस विश्वास की एक सच्ची उत्तराधिकारी हैं कि पड़ोसियों के बीच संबंध अनुकरणीय होना चाहिए और हमें खुशी है कि हमारे संबंध सिर्फ ताकत से मजबूत हुए हैं।
मुजीबुर रहमान (बंगाल का मित्र)
मुजीबुर रहमान को बांग्लादेश में बंगबंधु (बंगाल का मित्र) के नाम से जाना जाता है। उन्होंने कहा कि बंगबंधु की यात्रा लोकतंत्र में अटूट विश्वास थी। सामाजिक न्याय के लिए एक जुनून, सांस्कृतिक समावेशिता और पहचान पर जोर दिया गया जिसके कारण बांग्लादेश आजाद है।  अकबरुद्दीन ने कहा, अब ये सभी वैल्यू हैं जो हम संयुक्त राष्ट्र में रखते हैं और नरीश करते हैं।
भाषाई विरासत से बंधे का भारत और बाग्लादेश 
भारत और बांग्लादेश के बीच संबंध कई मायनों में खास हैं, अकबरुद्दीन ने कहा कि नई दिल्ली और ढाका एक भाषा की सामान्य सांस्कृतिक और भाषाई विरासत से बंधे हैं। भारत और बांग्लादेश के राष्ट्रगान नोबेल पुरस्कार विजेता रवीन्द्र नाथ टैगोर द्वारा लिखे गए थे। बांग्लादेश के 'अमार सोनार बंगला’ और भारत के 'जन गण मन ’ऐसे बॉन्ड हैं जो दर्शाते हैं कि कैसे दो देशों ने अपनी विरासत को एक समान संस्कृति से जोड़ा है।

बंगबंधु के दृष्टिकोण को आज भी लागू कर रहा है बाग्लादेश
अकबरुद्दीन ने कहा कि बांग्लादेश इस बात का उदाहरण है कि कैसे एक देश को अपने विकास के लिए संपर्क करना चाहिए, चाहे वह आर्थिक विकास, शिक्षा, सामाजिक संकेतक, प्रौद्योगिकी, बैंकिंग, ग्रामीण विकास और महिला सशक्तिकरण के संदर्भ में हो। यह विकासशील दुनिया में हम सभी के लिए अनुकरण करने के लिए एक उदाहरण है। और शायद यही सबसे बड़ी श्रद्धांजलि है कि बांग्लादेश का वर्तमान नेतृत्व बंगबंधु के दृष्टिकोण को लागू कर रहा है जो वह बांग्लादेश के लिए चाहते थे और यही वह स्थायी श्रद्धांजलि है जिसे हम सभी प्रशंसा के साथ देखते हैं। अकबरुद्दीन ने उम्मीद जताई कि भारत बांग्लादेश की मदद का विस्तार करेगा ताकि बंगबंधु के जन्म की 100 वीं वर्षगांठ बांग्लादेश मनाए। 

ढाका की यात्रा के दौरान, विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भी बांग्लादेश के संस्थापक का सम्मान किया था और कहा था कि भारत को उनकी दृष्टि को पूरा करने के लिए देश के साथ साझेदारी करने पर गर्व है। जयशंकर बंगबंधु मैमोरियल म्यूजियम  जयशंकर ने विजिटर बुक में लिखा, "बंगबंधु के दृष्टिकोण को पूरा करने के लिए भारत को बांग्लादेश के साथ साझेदारी करने पर गर्व है।

 

Posted By: Ayushi Tyagi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप