वाशिंगटन, एजेंसी। कोरोना वायरस के डेल्टा वैरिएंट के कारण अमेरिका में कोविड -19 के मामलों में भारी उछाल देखा जा रहा है। अमेरिकी शहर ऑस्टिन में सोमवार को वहां के अस्पतालों में आइसीयू में सिर्फ छह बेड बचे थे। टेक्सास में ऑस्टिन की आबादी 24 लाख से अधिक है।

राज्य के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, ऑस्टिन में आईसीयू बेड का संकट डेल्टा वैरिएंट के बढ़ते मामलों के कारण देखा गया है। पिछले साल भारत में पहली बार डेल्टा वैरिएंट का पता चला था। ऑस्टिन में स्थिति गंभीर है क्योंकि शहर में केवल 313 वेंटिलेटर बचे हैं और छह आईसीयू बेड उपलब्ध हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, ऑस्टिन के स्वास्थ्य प्राधिकरण के चिकित्सा निदेशक डॉ डेसमार वाक्स ने कहा कि ऑस्टिन की स्थिति गंभीर है। इस दौरान ऑस्टिन में स्वास्थ्य विभाग ने तबाही की चेतावनी भी भेजी है। शहर के निवासियों को ईमेल, टेक्स्ट मैसेज और फोन कॉल के जरिए सूचनाएं भेजी गईं। डॉ वाक्स ने कहा कि हमारे अस्पताल गंभीर रूप से तनावग्रस्त हैं। बढ़ते मामलों के साथ हम उनके बोझ को कम कर सकते हैं। डॉ वाक्स ने कहा कि हम समय से बाहर चल रहे हैं और हमारे समुदाय को अब कार्य करना चाहिए।

पिछले हफ्ते तीन अस्पताल जो ऑस्टिन क्षेत्र की सेवा में काम कर रहे हैं- असेंशन सेटन, बायलर स्कॉट एंड व्हाइट और सेंट डेविड हेल्थकेयर ने एक संयुक्त बयान जारी किया, जिसमें कहा गया था कि नवीनतम कोविड -19 के बढ़ते मामले ने अस्पताल के कर्मचारियों को चुनौती दी है। बयान में कहा गया है कि नवीनतम कोविड -19 के बढ़ते मामलों ने हमारे अस्पतालों, आपातकालीन विभागों और स्वास्थ्य पेशेवरों पर असाधारण दबाव डाल रहा है और इसने लंबे समय से नर्सिंग की कमी के कारण अस्पताल के कर्मचारियों को और चुनौती दी है।

टेक्सास का एक और शहर सैन एंटोनियो कोरोना के रोगियों की वृद्धि के कारण नर्सिंग की कमी का सामना कर रहा है। सैन एंटोनियो में जुलाई की शुरुआत के बाद से शनिवार को कोविड -19 के कारण अस्पताल में भर्ती होने वाले की संख्‍या 430 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

सैन एंटोनियो के सबसे बड़े अस्पतालों में से एक यूनिवर्सिटी हेल्थ के मुख्य कार्यकारी नर्स टॉमी ऑस्टिन ने कहा किे हमारे अस्‍पताल में मरीज लॉबी में इंतजार कर रहे हैं। हमारे हाल में कई मरीज हैं। इस संगठन के हर नुक्कड़ और दरार में एक मरीज है। रविवार को टेक्सास के अस्पतालों में कोरोना के 6,594 लोग भर्ती थे। यह 24 फरवरी के बाद से अस्पतालों में भर्ती कोविड -19 रोगियों की सबसे अधिक संख्या थी।

Edited By: Arun Kumar Singh