मालदा, संवाद सूत्र। गोलियों से लदी इंसास राइफल के साथ बीएसएफ का एक जवान रहस्यमय तरीके से गायब हो गया। जिसे लेकर मालदा के 159 बटालियन के बीएसएफ अधिकारियों की परेशानी बढ़ गई। रात भर लापता रहने के बाद जवान की तलाश शुरू हुई। चूंकि जवान के पास एक लोडेड इंसस राइफल और दो मैगजीन थी। जिसे लेकर बीएसएफ के अधिकारी चिंतित थे। हालांकि उस लापता जवान का रविवार दोपहर को पता चल गया। उसके बाद मालदा नारायणपुर बीएसएफ अधिकारियों ने जवान को फिलहाल पुरातन मालदा थाना पुलिस को सौंप दिया।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक बीएसएफ जवान का नाम अखिलेश कुमार है, जो उत्तर प्रदेश के कानपुर का रहनेवाला है। वह मालदार हबीबपुर थानान्तर्गत भारत-बांग्लादेश सीमा की 159 बटालियन में बतौर कर्मचारी कार्यरत है। जवान शनिवार रात से रहस्यमय तरीके से लापता था। इससे बीएसएफ के अधिकारी चितिंत थे, क्योंकि, उस जवान के पास एक इंसास राइफल और दो मैगजीन थी। वही घटना के बाद बीएसएफ के संबंधित अधिकारियों ने भी इस बात की जांच शुरू कर दी है कि जवान अचानक क्यों गायब हो गया। इतनी बड़ी मात्रा में कारतूस और अत्याधुनिक आग्नेयास्त्रों के साथ बीएसएफ जवान के लापता होने के बाद रात भर जाच शुरू हुई। आखिरकार रविवार को बीएसएफ अधिकारियों को जवान मिल गया।

पुलिस सूत्रों के अनुसार बीएसएफ के कुछ अन्य जवानों ने उस जवान को नारायणपुर इलाके में सुनसान जगह पर इंसास राइफल के साथ सोते हुए पाया। उसके बाद खबर नारायणपुर बीएसएफ सेक्टर को दी गई। तभी बीएसएफ अधिकारियों ने जवान को गिरफ्तार कर पुलिस को सौंप दिया गया। पुलिस और बीएसएफ ने इस बारे में कुछ नहीं बताया कि जवान बंदूक लेकर ड्यूटी स्टेशन से क्यों निकला था। इसके अलावा, इस घटना के मद्देनजर बीएसएफ अधिकारियों की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली। बहरहाल, बीएसएफ और संबंधित थाने के पुलिस अधिकारियों ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट