मालदा, संवाद सूत्र। शिक्षक भर्ती घोटाला में पूर्व शिक्षा मंत्री और उनकी करीबी अर्पिता घोष की गिरफ्तारी के बाद से प्रदेश भर में एक के बाद एक नए मामले सामने आ रहे है, जिसमें पैसे लेकर नौकरी दिलाने का आश्वासन दिया गया था। मालदा में इस बार तृणमूल एसटी मोर्चा सेल के अध्यक्ष चुनिया मुर्मु पर पैसे लेकर नौकरी नहीं देने का मामला सामने आया है। यह मामला मालदा के हबीबपुर थाना के पलाश वन गांव के निवासी ललित महतो ने लगाया है। ललित के पास पैसे मांगने का ऑडियो भी है। यह ऑडियो जिला भर में वायरल हो गया है। वैसे दैनिक जागरण इस ऑडियो की पुष्टि नहीं करता।

वहीं चुनिया मुर्मु ने इस आरोप को सिरे से नकारते हुए इसे साजिश करार दिया है। उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले आशा वर्कर्स की भर्ती के लिए एक विज्ञप्ति जारी की गयी थी। जिले भर में भर्ती का काम चल रहा था। ललित महतो की पत्‍‌नी जयंती महतो ने भी आशाकर्मी के लिए आवेदन किया था। मालदा जिले के एसटी मोर्चा के अध्यक्ष चुनिया मुर्मु ने नियुक्ति करवाने के लिए मौखिक रूप से डेढ़ लाख रूपये की मांग की थी। पैसे मांगने का ऑडियो भी ललित के पास है। ललित महतो ने पैसे देने से इंकार कर दिया। इंटरव्यू में जयंती के अधिक अंक आए थे, इसके बावजूद उसकी नौकरी नहीं हुई। चुनिया मुर्मु का कहना है कि मैं किसी ललित महतो को नहीं जानता।

इस संबंध में भाजपा के दक्षिण मालदा के जिला महासचिव अमलान भादुड़ी ने कहा कि तृणमूल ने नौकरी देने के लिए एक कंपनी खोली है। उसने शिक्षा, स्वास्थ्य हर चीज की एजेंसी खोली है। पैसा दो, नौकरी लो। धीरे-धीरे इस कंपनी के बारे में लोगों को जानकारी हो रही है। किसी को नौकरी दी गयी, किसी को नहीं दी गयी। यह अवैध काम है। वहीं राज्य तृणमूल कांग्रेस के महासचिव कृष्णनन्दु नारायण चौधरी ने कहा कि अभी तक इसकी जांच नहीं हुई है। अगर ऐसा कुछ हुआ है, तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट