जागरण संवाददाता, कोलकाता : दक्षिण 24 परगना जिले के सुंदरवन में बुधवार को बाघ के हमले में एक मछुआरे की मौत हो गई। उसकी पहचान कार्तिक मंडल के रूप में हुई है। वह अपने दो साथियों के साथ

दो नंबर पीरखाली जंगल में केकड़ा और मछली पकड़ने पहुंचा था।

जानकारी के मुताबिक गोसाबा थाना क्षेत्र निवासी कार्तिक अपने दो साथियों के साथ जंगल में केकड़ा पकड़ रहा था, तभी घनी झाड़ियों से एक बाघ निकला और उस पर हमला कर दिया। बाघ ने कार्तिक की गर्दन को अपने जबड़े में दबोच लिया और घने जंगल की ओर खींच कर ले जाने की कोशिश करने लगा, लेकिन कार्तिक के साथियों ने उसे छुड़ाने के लिए बाघ पर ही धावा बोल दिया। दो तरफ से हमला होने से बाघ घबड़ा गया और कार्तिक को छोड़ कर वापस जंगल की ओर भाग गया। हालांकि तब तक कार्तिक की मौत हो चुकी थी। साथी उसे उठा कर गांव ले आए। घटना की सूचना पाकर पुलिस भी पहुंच गई। कार्तिक को अस्पताल ले गई, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। शव का पंचनामा करने के बाद पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। गौरतलब हो कि सुंदरवन में बाघ के हमले में किसी मछुआरे की मौत की यह पहली घटना नहीं है। आजीविका के मुख्य साधन केकड़ा और मछली होने के कारण मछुआरे अक्सर सुंदरवन के घने और प्रतिबंधित क्षेत्र में चले जाते हैं और वहां बाघों के हमले का शिकार होना पड़ता है। कई बात उनकी जान बच जाती है, तो कई बार मौत हो जाती है।

Edited By: Jagran