जागरण संवाददाता, कोलकाता। प्राकृतिक आपदा के समय या संकट की स्थिति में लोगों की मदद व बचाव कार्य के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) विभिन्न जिलों में आपदा मित्र तैयार कर रहा है। इसी क्रम में बंगाल में तैनात एनडीआरएफ की दूसरी वाहिनी, कोलकाता की ओर से राज्य के विभिन्न जिलों में आपदा मित्र स्वयंसेवकों के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें युवाओं को आपदा प्रबंधन का प्रशिक्षण दिया गया।

एनडीआरएफ के कमांडेंट गुरमिंदर सिंह के दिशा निर्देशन में आयोजित इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान आपदा मोचन बल की टीमों ने आपदा मित्र स्वयंसेवकों को किसी भी प्रकार की आपदा से बचाव के उपायों की जानकारी दी। इस दौरान डेमो देकर प्रायोगिक तौर पर भी युवाओं को प्रशिक्षित किया गया जिसमें बाढ़ व आगजनी से बचाव, घायलों का प्राथमिक उपचार करना, घायल व्यक्ति की ब्लीडिंग को रोकना, चोटों को स्टेबलाइज करना और पीड़ित की जान बचाने हेतु सीपीआर देने आदि के बारे में डेमो देकर बताया गया।

चार जिलों में 250 आपदा मित्रों को दिया गया प्रशिक्षण

कमांडेंट गुरविंदर सिंह ने बताया कि 24 व 25 नवंबर को चार जिलों में आयोजित प्रशिक्षण शिविर के माध्यम से करीब 250 आपदा मित्रों को प्रशिक्षण दिया गया। इसमें पश्चिम बर्धमान जिले के आसनसोल स्थित सिविल डिफेंस बिल्डिंग, कन्यापुर में आयोजित शिविर में 76 युवाओं को आपदा प्रबंधन का प्रशिक्षण दिया गया। इसमें 66 युवक और 10 सिविल डिफेंस के लोग शामिल रहे। इस प्रशिक्षण शिविर में एनडीआरएफ की टीम ने प्रतिभागियों को न्यूक्लियर एंड केमिकल विषय के बारे में बताया और भविष्य में इसके खतरे से निपटने, इसका प्रबंधन, पीपीई किट का इस्तेमाल, रस्सी से बचाव आदि के बारे में डेमो प्रदर्शित किया। इसी तरह कोलकाता के बांसद्रोनी में भी प्रशिक्षण शिविर आयोजित किया गया जहां एनडीआरएफ की टीम ने किसी भी आपदा में घायल लोगों के प्राथमिक उपचार व बचाव के बारे में जानकारी दी। इस शिविर में 51 आपदा मित्रों को प्रशिक्षण दिया गया जिसमें 39 पुरुष व 12 महिलाएं शामिल थीं।

कृष्णानगर और झाड़ग्राम में भी आयोजित किया गया प्रशिक्षण शिविर

इसी प्रकार नदिया जिले के कृष्णानगर में आयोजित शिविर में 76 आपदा मित्रों को प्रशिक्षण दिया गया। इसके अलावा झाड़ग्राम जिले के देव ब्लाक में आयोजित शिविर में 44 लोगों को आपदा प्रबंधन का प्रशिक्षण दिया गया। एनडीआरएफ कमांडेंट ने बताया कि इस प्रशिक्षण का उद्देश्य है कि हम किस तरह से लोगों की आपदा के समय मदद कर सकते हैं और उनकी जान बचा सकते हैं। 

Edited By: PRITI JHA

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट