राज्य ब्यूरो, कोलकाता। शिक्षक भर्ती भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तार पार्थ चटर्जी की जगह पर वरिष्ठ टीएमसी नेता व मंत्री मानस भुइयां को तृणमूल सरकारी कर्मचारी संघ का प्रभारी बनाया गया है। शिक्षक भर्ती भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तार पार्थ चटर्जी का मंत्रालय पहले ही जा चुका है। उसके बाद तृणमूल ने उन्हें पार्टी के महासचिव पद, अनुशासन समिति के अध्यक्ष और संसदीय दल के नेता के पद से निष्कासित कर दिया है।

इस बार राज्य के वरिष्ठ नेता मानस भुइयां को पार्थ के स्थान पर तृणमूल सरकारी कर्मचारी संघ का प्रभारी बनाया गया है। मानस ने मंगलवार को स्वयं कहा कि वह चार दिसंबर को मौलाली युवा केंद्र में पंचायत स्तर के सरकारी कर्मचारियों के साथ पहला सम्मेलन करेंगे। इसके बाद वह धीरे-धीरे संगठन के अन्य नेताओं से मिलेंगे।

एक समय तृणमूल सरकारी कर्मचारी संघ के प्रमुख राज्य के तत्कालीन मंत्री सुवेंदु अधिकारी थे। हालांकि, दिसंबर 2020 में उन्होंने मंत्रालय और तृणमूल की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया और भाजपा में शामिल हो गए। उसके बाद उस संघ की जिम्मेदारी तृणमूल के तत्कालीन महासचिव पार्थ पर आ गई।

एक समय में राज्य कांग्रेस अध्यक्ष मानस भुइयां कांग्रेस से तृणमूल कैबिनेट के एक महत्वपूर्ण सदस्य बन गए। बाद में उन्होंने पार्टी बदली और तृणमूल में शामिल हो गए। पार्टी ने दिग्गज नेता को राज्यसभा का सदस्य बनाया। उनकी पत्नी भी तृणमूल विधायक बनीं। मानस पिछले विधानसभा चुनाव के बाद फिर से राज्य मंत्री बने।

इस बार नई जिम्मेदारी मिलने पर उन्होंने कहा कि मैं चार दिसंबर को पंचायत मामलों की बैठक में शामिल होऊंगा। लेकिन इससे पहले मैंने केवल पार्टी स्तर पर राजनीति की। फेडरेशन के काम में मदद की, ट्रेड यूनियन की बैठकों में गया। लेकिन मैंने कोई भी सांगठनिक काम प्रभारी बनकर नहीं किया। अब जब शीर्ष नेतृत्व ने आदेश दिया है तो मेरा पहला काम सक्रिय सदस्यों की पहचान करना होगा। वे ही संगठन के दिल होंगे। 

Edited By: PRITI JHA

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट