कोलकाता, राज्य ब्यूरो। कुर्मी समुदाय के लोगों ने अनुसूचित जनजाति (एसटी) का दर्जा देने और कुरमाली भाषा को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने की मांग को लेकर मंगलवार को बंगाल समेत पूर्वी भारत के कई हिस्सों में रेल पटरियों को अवरुद्ध कर दिया। जिससे बंगाल, झारखंड और ओडिशा के सीमावर्ती क्षेत्रों में ट्रेन सेवाएं खासा प्रभावित हुई। प्रदर्शनकारियों ने बंगाल के पुरुलिया जिले में एक राष्ट्रीय राजमार्ग को भी अवरुद्ध किया, इसके कारण कुछ देर के लिए आवागमन बाधित रहा।

दक्षिण पूर्व रेलवे (दपूरे) के प्रवक्ता ने बताया कि खडग़पुर, आद्रा व चक्रधरपुर मंडलों में प्रदर्शनकारियों ने कई स्थानों पर रेल पटरियों पर सुबह से ही धरना दिया। जिससे कई ट्रेनों को रद, शार्ट टर्मिनेशन और डायवर्जन (मार्ग परिवर्तन) करना पड़ा। दपूरे की ओर से एक बयान में बताया गया कि आंदोलन के कारण मंगलवार को 26 ट्रेनों को रद करना पड़ा, 24 का रूट डायवर्ट किया गया और 16 ट्रेनों को शार्ट टर्मिनेट या ओरिजिन किया गया।

प्रवक्ता ने बताया कि आंदोलनकारी खडग़पुर मंडल के खेमासुली व भंजपुर, आद्रा मंडल के निमडीह व कस्तौर एवं चक्रधरपुर मंडल के औनलाजोरी स्टेशनों के पास सुबह करीब पांच बजे से ही रेल पटरियों पर बैठ गए, जिससे यात्री और मालगाडिय़ों की आवाजाही काफी प्रभावित हुई।

रद की गई ट्रेनों में टाटानगर-हावड़ा-टाटानगर स्टील एक्सप्रेस, हावड़ा-बारबिल-हावड़ा जनशताब्दी एक्सप्रेस, हावड़ा-टिटलागढ़-कांतभांजी इस्पात एक्सप्रेस, आसनसोल-टाटानगर-आसनसोल एक्सप्रेस, टाटानगर दानापुर एक्सप्रेस और हावड़ा-घाटसिला-हावड़ा एक्सप्रेस व अन्य शामिल हैं।

ये ट्रेनें डायवर्ट

वहीं, प्रदर्शन के कारण, दपूरे ने राजेंद्रनगर-दुर्ग एक्सप्रेस, हावड़ा-चक्रधरपुर एक्सप्रेस, हावड़ा-मुंबई सीएसएमटी दुरंतो एक्सप्रेस, हावड़ा-पुणे आजाद हिंद एक्सप्रेस, पोरबंदर-शालीमार एक्सप्रेस, मुंबई सीएसएमटी- हावड़ा मेल और पुरी-नई दिल्ली एक्सप्रेस समेत कई ट्रेनों को डायवर्ट किया। प्रवक्ता ने बताया कि जिन ट्रेनों का मार्ग बदला गया उनमें न्यू तिनसुकिया-तांबरम एक्सप्रेस, मुंबई एलटीटी-शालीमार एक्सप्रेस, अहमदाबाद-हावड़ा एक्सप्रेस, मुंबई सीएसएमटी-हावड़ा एक्सप्रेस और भुवनेश्वर-नई दिल्ली एक्सप्रेस भी शामिल हैं।

Edited By: Sumita Jaiswal

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट