राज्य ब्यूरो, कोलकाता। चक्रवात जवाद को लेकर बंगाल सरकार हाई अलर्ट पर है। शनिवार को चक्रवात के ओडिशा-आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों की तरफ बढ़ने के बीच बंगाल सरकार ने दक्षिण 24 परगना व पूर्व मेदिनीपुर जिलों से हजारों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है। लोगों को समुद्री तटों से दूर रहने की हिदायत दी गई है। कोलकाता, उत्तर और दक्षिण 24 परगना, पूर्व और पश्चिम मेदिनीपुर, झारग्राम, हावड़ा और हुगली जिलों के कई स्थानों पर सुबह से ही हल्की बारिश हो रही है। भारत मौसम विज्ञान विभाग की तरफ से जारी बुलेटिन में कहा गया कि जवाद पिछले छह घंटों में धीरे-धीरे चार किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उत्तर दिशा की तरफ बढ़ा है और यह प्रात: 5.30 बजे तक आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम के 230 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व, ओडि़शा के गोपालपुर के 340 किलोमीटर दक्षिण में, पुरी (ओडि़शा) के 410 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण पूर्व में तथा पारादीप (ओडि़शा) के 490 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण-पूर्व में केंद्रित था।

बंगाल प्रशासन के एक अधिकारी ने बताया कि दक्षिण 24 परगना और पूर्व मेदिनीपुर जिलों में प्रशासन ने तटीय क्षेत्रों से लगभग 11,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है जबकि मछुआरे अपनी नौकाओं के साथ काकद्वीप, दीघा, शंकरपुर और अन्य तटीय क्षेत्रों में वापस आ गए हैं। मौसम विभाग के एक प्रवक्ता ने कहा कि चक्रवात के उत्तर- उत्तर-पश्चिम की ओर बढऩे और पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी तक पहुंचने तथा इसके बाद उत्तर-उत्तर-पूर्व की ओर इसके फिर से बढऩे, पांच दिसंबर को लगभग दोपहर के समय ओडि़शा तट पर इसके पुरी के पास पहुंचने और धीरे-धीरे कमजोर होने की संभावना है। यह कमजोर होकर पुरी तट पर पहुंचने तक गहरे दबाव में बदल सकता है। चक्रवात के मद्देनजर राज्य में एनडीआरएफ की कुल 19 टीमें तैनात की गई हैं।

मौसम विभाग ने कोलकाता, पूर्व और पश्चिम मेदिनीपुर, उत्तर और दक्षिण 24 परगना, झारग्राम, हुगली और हावड़ा जिलों में एक-दो स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा का पूर्वानुमान व्यक्त किया है। उत्तर और दक्षिण 24 परगना, नदिया और मुर्शिदाबाद जिलों में भी सोमवार को भारी बारिश की संभावना है। 

Edited By: Sachin Kumar Mishra