जागरण संवाददाता, कोलकाता : नदिया जिले के हरिणघाटा स्थित राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के दूसरी बटालियन मुख्यालय में 19 से 25 नवंबर तक सांप्रदायिक सद्भाव सप्ताह का आयोजन किया गया। बटालियन के कमांडेंट गुरमिंदर सिंह की देखरेख में आयोजित इस सद्भाव सप्ताह का शुभारंभ द्वितीय कमान अधिकारी विश्वनाथ पराशर ने किया। इस समारोह में उपस्थित आपदा कर्मियों एवं प्रशिक्षण के लिए सिक्किम राज्य से आए नेहरू युवा केंद्र के प्रतिभागियों को सद्भावना सप्ताह का इतिहास और महत्त्व बताया गया।

गान, कविताएं और समूह गीत प्रस्तुत किए

द्वितीय कमान अधिकारी विश्वनाथ पाराशर ने बताया कि इस सद्भावना सप्ताह के दौरान वाहिनी मुख्यालय में सांस्कृतिक कार्यक्रम सहित विभिन्न प्रकार का आयोजन किया गया जिसके जरिए सांप्रदायिक सद्भाव और राष्ट्रीय एकता व अखंडता अक्षुण्ण रखने पर बल दिया गया। सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान सांप्रदायिक सद्भाव और राष्ट्रीय एकता पर आधारित गान, कविताएं और समूह गीत प्रस्तुत किए गए।

साइकिल रैली भी निकाली, एकता का संदेश

पराशर ने बताया कि सद्भावना सप्ताह के दौरान वाहिनी मुख्यालय से साइकिल रैली का भी आयोजन किया गया, जिसके जरिए एकता का संदेश दिया गया। इस साइकिल रैली में बढ़-चढ़कर प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया।

चित्रकला प्रतियोगिता का भी हुआ आयोजन

उन्होंने बताया कि इस साप्ताहिक आयोजन के दौरान एनडीआरएफ कर्मियों के परिवारों एवं बच्चों के लिए चित्रकला प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया एवं उन्हें पुरस्कृत कर हौसला अफजाई की गई। सद्भावना सप्ताह के समापन पर द्वितीय कमान अधिकारी पराशर ने बल के सभी कार्मिकों एवं नेहरू युवा केंद्र के प्रशिक्षणार्थियों का इस आयोजन में बढ़-चढ़कर भाग लेने के लिए धन्यवाद किया। बता दें कि केंद्र सरकार के सभी विभागों में हर साल सांप्रदायिक सद्भाव सप्ताह का पालन किया जाता है।

Edited By: Vijay Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट