जागरण संवाददाता, कोलकाता। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के दक्षिण बंगाल फ्रंटियर जवानों ने भारत- बांग्लादेश अंतरराष्ट्रीय सीमा क्षेत्र में अभियान चलाकर तस्करी के प्रयासों को नाकाम करते हुए अलग-अलग जगहों से प्रतिबंधित फेंसेडिल कफ सिरप की 926 बोतलें जब्त की है। इस सिलसिले में चार तस्करों को भी गिरफ्तार किया गया है, जिसमें दो बांग्लादेशी हैं। बीएसएफ ने रविवार को बयान जारी कर जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि फेंसेडिल की बांग्लादेश में तस्करी की जा रही थी, जहां शराब प्रतिबंधित होने की वजह से इस कफ सिरप का लोग नशे के तौर पर इस्तेमाल करते हैं।

तलाशी के बाद बरामद किए गए फेंसेडिल के 674 बोतल

बीएसएफ के मुताबिक, जब्त फेंसेडिल का अनुमानित बाजार मूल्य 1,90,116 रुपये है। बयान के मुताबिक, पहली घटना शनिवार को बेरहामपुर सेक्टर अंतर्गत सीमा चौकी रानीनगर, 86वीं बटालियन के क्षेत्र की है, जहां जवानों ने बाड़ के पास कुछ तस्करों की संदिग्ध गतिविधि देखी। जवानों द्वारा चुनौती दिए जाने पर तस्करों ने अपने साथ लाए खेप को छोड़कर भागने की कोशिश की। हालांकि जवानों ने उनका पीछा कर एक भारतीय तस्कर आलम शेख (35) को पकड़ लिया है। वह बर्धमान का रहने वाला है। तलाशी लेने पर मौके से 674 बोतल फेंसेडिल बरामद किया गया, जिसे सीमा पार कराकर बांग्लादेश में तस्करी की जानी थी।

एक अन्य घटना में फेंसेडिल के 200 बोतल बरामद

दूसरी घटना मालदा सेक्टर के तहत सीमा चौकी कंचनतार, 70वीं बटालियन के क्षेत्र की है, जहां शनिवार शाम जवानों ने एक भारतीय तस्कर को 200 बोतल फेंसेडिल के साथ पकड़ा। तस्कर की पहचान सलीम मिया (39), मालदा के रूप में हुई है। इसके अलावा एक अन्य घटना में उत्तर 24 परगना जिले में सीमा चौकी हरिदासपुर, 158वीं बटालियन, सेक्टर कोलकाता के जवानों ने शनिवार शाम तलाशी अभियान चलाकर जलकुंभी में छिपे दो बांग्लादेशी तस्करों को फेंसेडिल की 52 बोतलों के साथ गिरफ्तार किया। तस्करों की पहचान 25 साल के तारिकुल इस्लाम और 24 साल के हुमायूं कबीर के रूप में हुई। दोनों बांग्लादेश के यशोर का रहने वाला है।

बीएसएफ ने जब्त किए गए तस्करों को संबंधित थाने में सौंपा

बीएसएफ ने पकड़े गए तस्करों और जब्त फेंसेडिल की बोतलों को आगे की कानूनी कार्रवाई के लिए संबंधित थाने को सौंप दिया है। इधर, इस सफलता पर दक्षिण बंगाल फ्रंटियर के प्रवक्ता व डीआइजी अमरीश कुमार आर्य ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए अपने जवानों की पीठ थपथपाई। उन्होंने कहा कि यह उनके जवानों द्वारा ड्यूटी पर दिखाई गई सतर्कता के कारण संभव हो पाया है। अधिकारी ने साफ तौर पर कहा कि उनके जवानों की नजर से कुछ भी नहीं छिप सकता।

Edited By: Sonu Gupta