राज्य ब्यूरो, कोलकाता : बंगाल विधानसभा में चर्चा के दौरान बुधवार को सीमावर्ती मुर्शिदाबाद जिले के भगवानगोला से सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के विधायक इदरीश अली ने सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) पर गंभीर आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि बीएसएफ और बार्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) मिलकर सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों पर अत्याचार कर रहा है। उन्होंने कहा कि सीमा के पास जिनका खेत है, उनको फसल काटने में भी बीएसएफ द्वारा बाधा दी जाती है। आवाजाही से लोगों को रोका जाता है। अली ने आरोप लगाया कि हमलोगों (तृणमूल विधायकों) और पार्टी के नेताओं-कार्यकर्ताओं को भी बीएसएफ द्वारा धमकी दी जाती है। उन्होंने सदन के बाहर मीडिया के साथ बातचीत में भी इन आरोपों को दोहराया।

बीएसएफ ने आरोपों को बताया बेबुनियाद

इधर, तृणमूल विधायक के आरोपों को बीएसएफ ने पूरी तरह से बेबुनियाद बताया है। यहां बीएसएफ के दक्षिण बंगाल फ्रंटियर के एक वरिष्ठ अधिकारी ने विधायक के बयान के संबंध में पूछे जाने पर कहा- मैंने उनका बयान नहीं सुना है। जहां तक लोगों पर अत्याचार व धमकी का सवाल है तो यह पूरी तरह से बेबुनियाद आरोप है। बीएसएफ एक पेशेवर बल है और अपने दायरे में रहकर काम करती है। बीएसएफ सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहती है।

बीएसएफ पर लगातार लगाए जाते रहे आरोप

बता दें कि तृणमूल द्वारा अक्सर बीएसएफ पर इस तरह के आरोप लगाए जाते रहे हैं। इससे पहले कूचबिहार के दिनहाटा से विधायक व राज्य सरकार में मंत्री उदयन गुहा बीएसएफ के खिलाफ लगातार मुखर रहे हैं। उन्होंने कुछ माह पहले विधानसभा में चर्चा के दौरान यहां तक आरोप लगाया था कि बीएसएफ के जवान सीमावर्ती क्षेत्र में तलाशी के नाम पर महिलाओं को गलत तरीके से छूते हैं।

Edited By: Vijay Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट