- ट्रेन की चपेट में आने से युवक के दोनों पैर कट गए थे, अस्पताल ले जाने के दौरान हुई मौत

संवाद सूत्र, धूपगुड़ी: धूपगुड़ी में फिर एक बार अमानवीय तस्वीर देखने को मिली है। रेल लाइन पर खून से लथपथ अवस्था में एक युवक घंटों पड़ा रहा, लेकिन उसकी मदद के लिए कोई रेल कर्मी या अधिकारी आगे नहीं आ है। आखिरकार युवक की मौत हो गई। गुरुवार सुबह को धूपगुड़ी और अल्टाग्राम स्टेशनों के बीच रेलवे लाइन पर एक व्यक्ति को घायल पड़ा था। स्थानीय लोगों का आरोप है कि सूचना देने के बाद भी घंटों बाद रेलवे अधिकारी मौके पर पहुंचा। वह करीब एक घटे तक लहूलुहान अवस्था में लाइन में पड़ा रहा। मौके पर काफी लोग मौजूद थे, लेकिन कानून पेंच में पड़ने के डर से मदद के लिए कोई आगे नहीं आया। वहीं ग्रामीणों से सूचना मिलने के बाद दमकल कर्मी मौके पर पहुंचे और घायल अवस्था में युवक को अस्पताल में भर्ती कराया। यहां पहुंचने पर चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

यह घटना धूपगुड़ी रेलवे स्टेशन से सटे ओवरब्रिज इलाके में हुई है। स्थानीय सूत्रों के मुताबिक डाउन लोकमान्य तिलक ट्रेन गुवाहाटी से मुंबई जा रही थी। उस समय धूपगुड़ी स्टेशन पार करते हुए युवक ट्रेन की चपेट में आ गया। इस हादसे में उनके दोनों पैर कट गए, लेकिन वह रेल लाइन पर जीवित अवस्था में ही था। फिर स्थानीय लोगों ने तुरंत घटना की जानकारी धूपगुड़ी पुलिस और दमकल विभाग को दी। करीब एक घंटे बाद उसे धूपगुड़ी अस्पताल ले जाया गया, परंतु तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। मृतक की पहचान असम निवासी खतीबुल आलम के रूप में हुई है।

इस विषय को लेकर रेलवे जीआरपी के एसआई उत्तम कुमार राई ने बताया प्राथमिक अनुमान है कि डाउन लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस से गिरने के कारण उसके पैर कटे हुए होंगे। धूपगुड़ी पुलिस और दमकल कर्मी मौके पर पहुंचे थे। लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।

Edited By: Jagran