सिलीगुड़ी, जागरण संवाददाता। सीमा सुरक्षा बल के सीमा प्रहरी भारत-बांग्लादेश की सीमा पर अजय सिंह, महानिरीक्षक, सीमा सुरक्षा बल, उत्तर बंगाल फ्रंटियर के नेतृत्व में मुस्तैदी से तैनात हैं ताकि राष्ट्र विरोधी तत्वों की तस्करी और घुसपैठ के किसी भी प्रयास को विफल किया जा सके। इसी कड़ी में 27 नवंबर 2022 को पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग जिले में भारत-बांग्लादेश सीमा पर तैनात उत्तर बंगाल फ्रंटियर में सिलीगुड़ी सेक्टर के तहत बीएसएफ की 176 बटालियन बीएसएफ के बीओपी महानंदा के जवानों ने एक बांग्लादेशी नागरिक को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार बांग्लादेशी नागरिक का नाम एमडी रोजोज अली (19 वर्ष) पुत्र एमडी क्वारबन अली बताया गया है, जो गांव- बलुदियार थाना-चारघाट, जिला-राजशाही (बांग्लादेश) का निवासी है।

गेको छिपकली को जंगली घास में रखा था छिपाकर 

उक्त बांग्लादेशी नागरिक को उस समय गिरफ्तार किया जब वह अवैध रूप से बांग्लादेश से भारत की सीमा पार करने की कोशिश कर रहा था। गिरफ्तार बांग्लादेशी नागरिक को पीएस फांसीदेवा को सौंप दिया गया है।

इसके अलावा, 27 नवंबर 2022 को गुप्त सूचना पर कार्रवाई करते हुए पश्चिम बंगाल के दक्षिण दिनाजपुर जिले में भारत-बांग्लादेश सीमा पर तैनात उत्तर बंगाल फ्रंटियर में रायगंज सेक्टर के अंतर्गत 61 बटालियन बीएसएफ की बीओपी उत्तरी आगरा के जवानों ने एक टोके गेको छिपकली को जब्त किया। छिपकली को एक काले नायलॉन के जाल के अंदर थाना हिली के तहत आगरा गांव के सामान्य क्षेत्र से एक आम के पेड़ के नीचे जंगली घास में छिपाया हुआ था। 

तीन लाख से ज्‍यादा के प्रतिबंधित सामान जब्‍त 

इसके अलावा 25 व 28 नवम्बर को उत्तर बंगाल फ्रंटियर सीमा सुरक्षा बल के अधीन वाहिनीयों के सीमा प्रहरियों ने अपने-अपने सीमावर्ती क्षेत्रों में तस्करी विरोधी अभियान चलाया। विभिन्न सीमावर्ती क्षेत्रों से 15 मवेशी, फेंसेडिल की 375 बोतलें, एक टोके गेको छिपकली और अन्य वर्जित सामान जब्त किए गए। जब्त सामानों की कुल कीमत 3,29,523 रुपये आंकी गई है। उपरोक्त वस्तुओं को सीमा सुरक्षा बल के सीमा प्रहरियों ने उस समय जब्त कर लिया, जब तस्कर इन वस्तुओं को भारत से बांग्लादेश तस्करी करने की कोशिश कर रहा था। 

Edited By: Sumita Jaiswal

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट