Move to Jagran APP

सिलीगुड़ी़ में वायु प्रदूषण नियंत्रण की पहल, एनजीटी के निर्देश पर आठ शहरों में शुरू की गई योजना

राज्‍य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने नेशनल ग्रीन ट्रिब्‍यूनल (एनजीटी) के निर्देश पर राज्‍य के आठ शहरों में वायु ध्‍वनि और नदी प्रदूषण पर नियंत्रण की पहल की है। इस परियोजना के लिए उत्‍तर बंगाल से सिर्फ सिलीगुड़ी का चयन किया गया है।

By Jagran NewsEdited By: Sumita JaiswalSun, 27 Nov 2022 01:49 PM (IST)
सिलीगुड़ी शहर में आज रविवार से वायु प्रदूषण नियंत्रण की पहल। सांकेतिक तस्‍वीर।

सिलीगुड़ी, जागरण संवाददाता। राज्‍य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने नेशनल ग्रीन ट्रिब्‍यूनल (एनजीटी) के निर्देश पर राज्‍य के आठ शहरों में वायु, ध्‍वनि और नदी प्रदूषण पर नियंत्रण की पहल की है। सिलीगुड़ी शहर में आज रविवार से वायु प्रदूषण से निपटने के लिए शहर के विभिन्न सड़कों पर जल छिड़काव किया जाएगा। सर्दी के मौसम में धूल को दूर करने के लिए सड़क जल छिड़काव वाहन का शुभारंभ शनिवार को किया गया। इसका शुभारंभ सिलीगुड़ी के मेयर गौतम देव ने किया। 

सालिड वेस्‍ट मैनेेजमेंट की भी योजना 

इस मौके पर उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए मेयर देव ने कहा कि यह कदम वायु प्रदूषण से निपटने में मदद करेगा। हमने पहले भी इसी तरह की व्यवस्था की थी, जिसे हम दिसंबर से फिर से शुरू करने की योजना बना रहे हैं। जल छिड़काव वाहनों की संख्या भी बढ़ाएंगे। इस तरह के वाहन से बारी-बारी से सभी 47 वार्डों के मुख्य सड़कों पर जल-छिड़काव किया जाएगा। जहां वायु प्रदूषण कम करने की पहल की जा रही है, वहीं हम नदी और ध्वनि प्रदूषण को नियंत्रण में लाने के लिए आवश्यक कदम उठाएंगे। उन्होंने कहा कि हम एनजीटी के निर्देशों का पालन करने की कोशिश कर रहे हैं। शून्य कचरा के उद्देश्य से निगम सभी वार्डों में सालिड वेस्ट मैनेजमेंट शुरू करेगा। 

राज्‍य के आठ शहरों में प्रदूषण नियंत्रण की पहल

राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा मिली जानकारी के अनुसार नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के आदेश का पालन करने के लिए पर्यावरण विभाग और पश्चिम बंगाल प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड  ने कोलकाता, हावड़ा, विधान नगर, हल्दिया, दुर्गापुर, सिलीगुड़ी, बैरकपुर व आसनसोल  वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने की पहल की है।  बताया गया कि सिलीगुड़ी उत्तर बंगाल का एकमात्र शहर है जिसे इस परियोजना के लिए चुना गया है, बाकी सात शहर दक्षिण बंगाल के हैं। बताया गया कि मोटर चालित छिड़काव प्रणाली से सुसज्जित वाहन में 10,000 लीटर पानी भरने की क्षमता है। इससे आज रविवार से दिन में दो बार सुबह और शाम को पानी का छिड़काव किया जाएगा। यह सिलीगुड़ी नगर निगम क्षेत्र और उसके बाहरी इलाकों की प्रमुख सड़कों पर एक दिन में 20 किमी की दूरी तय करेगी।

बढ़ेगी वाहनों की संख्‍या 

पश्चिम बंगाल प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, सिलीगुड़ी क्षेत्रीय कार्यालय पर्यावरण अभियंता गौतम पाल ने कहा के अधिकारियों ने कहा कि वायु प्रदूषण में सड़कों की धूल का बड़ा योगदान है। हमें उम्मीद है कि वाहन पर लगा स्प्रिंकलर धूल को कम करेगा। वर्तमान में एक वाहन से पानी का छिड़काव शुरु किया गया है। जल्द ही एक और जल छिड़काव वाहन लाया जाएगा।