संवाद सहयोगी, सांकतोड़िया : पुरुलिया आरपीएफ ने नन्हे फरिश्ते कार्यक्रम के साथ दो बच्चों को स्टेशन से बरामद कर चाइल्ड लाइन को सौंप दिया। इसके साथ ही अमानत कार्यक्रम के तहत एक व्यक्ति का खोया हुआ बैग लौटाया।

बताया जाता है कि रविवार की रात लगभग 7 बजे आरपीएफ ड्यूटी अधिकारी ओएन मिश्रा, कांस्टेबल सी महतो, वाई महतो, सी मिश्रा के साथ मेमो पैसेंजर में जांच कर रहे थे, उसी दौरान दो नाबालिग लड़कों को प्लेटफार्म नंबर चार पर बैठे देखा। पूछताछ में एक ने अपना नाम सीबा खान 12 वर्ष, जाफरगंज, जिला कटिहार, बिहार निवासी और दूसरे ने मंगल यादव 11 वर्ष, कृष्णपुर रोड 5, थाना चुटिया, गांव चुटिया, रांची (झारखंड) का रहने वाला बताया। दोनों ने बताया कि वह रांची स्टेशन पर ट्रेन में चढ़ गए। तभी अचानक ट्रेन चल पड़ी और वे ट्रेन से उतर नहीं पाये, पुरुलिया पहुंच गए। इसके बाद आरपीएफ ने उन्हें मेरी सहेली टीम के साथ सुरक्षित रखा और पुरुलिया चाइल्ड लाइन को जानकारी दिया। पुरुलिया चाइल्ड लाइन प्रतिनिधि रश्मि कुमारी चौधरी तथा एम चटर्जी 7:50 बजे पुरुलिया आरपीएफ पोस्ट पहुंचे तथा औपचारिकताएं पूरी कर बच्चों को वैधानिक रूप से पुरुलिया चाइल्ड लाइन ले गए।

दूसरी तरफ रविवार को एक नीले रंग का बैग उसके मालिक को लौटाया गया। रविवार को रेल मदद पर करीब आठ बजे रात को ट्रेन संख्या 03596 में जयजीत मंडल नामक यात्री का नीले रंग का बैग छूट जाने की शिकायत मिली थी। बैग के मालिक ने सोमवार दोपहर 12 बजे आरपीएफ पोस्ट पुरूलिया पहुंचकर कागजी कार्रवाई की, इसके बाद आरपीएफ ने उनको बैग सौंप दिया।

Edited By: Jagran