जागरण संवाददाता, दुर्गापुर : कांकसा एवं बीरभूम को जोड़ने वाले अजय नदी पर बना अस्थायी सेतु टूट गया। जिससे कांकसा व बीरभूम के बीच संपर्क टूट गया। जिससे लोगों को आने-जाने में समस्या हुई। सेतु टूटने के बाद भी पुलिस की ओर से लगातार नजर रखी जा रही है। दैनिक जागरण ने सेतु टूटने की आशंका को देखते हुए समाचार भी प्रकाशित किया था।

अजय नदी पर कांकसा के शिवपुर एवं बीरभूम जिले के बीच अस्थायी सेतु बनाया गया था। जिससे प्रत्येक दिन काफी संख्या में लोगों का आवागमन होता है। निम्न दबाव के कारण विभिन्न इलाकों में बारिश होने के कारण शनिवार की सुबह से ही अजय नदी का जल स्तर बढ़ने लगा था। प्रशासन की ओर से सतर्कता दिखाते हुए भारी वाहनों का परिचालन बंद कर दिया गया था। लोग पैदल, बाइक से आना-जाना कर रहे थे। सोमवार की सुबह सेतु के बीच का हिस्सा टूट गया। जिसके बाद लोगों ने भी यहां फेरी सेवा शुरू करने की मांग की है। वहीं कांकसा एवं इलमबाजार पुलिस की ओर से भी नजर रखी जा रही है। सोमवार को सेतु टूट जाने के बाद लोगों को पानागढ़ मोरग्राम हाइवे के माध्यम से घूम कर जाना पड़ा। लोगों की सुविधा के लिए प्रशासन की ओर से मोरम से यह रास्ता बना था। स्थानीय लोगों का कहना है कि कांकसा के बिदबिहार पंचायत के शिवपुर, अजय पल्ली, कृष्णपुर, जामदह, बासुदेवपुर समेत अन्य गांव के लोगों का आना-जाना लगा रहता है। वहीं बीरभूम जिले के जयदेव, कोटा, सिरसा समेत विभिन्न गांव के लोग विभिन्न काम से कांकसा व दुर्गापुर आते है। जयदेव के निवासी पार्थ चटर्जी ने कहा कि हमेशा हमलोगों का कांकसा आना-जाना होता है। सेतु टूट जाने पर काफी समस्या होती है। अब पानागढ़-मोरग्राम रास्ते से आना-जाना करना पड़ेगा, जो काफी दूर है। बासुदेवपुर निवासी समीर भंडारी ने कहा कि नदी के पास पहुंचने पर पता चला कि सेतु टूट गया है। नदी पार करने का कोई वैकल्पिक उपाय नहीं है, इस कारण घर लौटना पड़ रहा है। कांकसा के बीडीओ सुदीप्त भट्टाचार्य ने कहा कि पुलिस जवान वहां तैनात है, स्थिति पर नजर रखी जा रही है।

Edited By: Jagran