Move to Jagran APP

शराब पीने वालों की अब नहीं खैर, महिलाएं इस घास से सिखाएंगी सबक, पढ़ें...

शराब की लत छोड़ने के लिए लोग क्‍या-क्‍या नहीं करते। बस आखिरी जाम की बात कहकर फिर नया जाम लड़ा लेते हैं। मगर उत्‍तरकाशी के एक गांव में अब ऐसा नहीं चलेगा। यकीन नहीं होता तो बस एक बार इस गांव में शराब पीकर आ जाइए।

By Thakur singh negi Edited By: Published: Mon, 18 Jan 2016 01:15 PM (IST)Updated: Mon, 18 Jan 2016 04:56 PM (IST)

उत्तरकाशी। शराब की लत छोड़ने के लिए लोग क्या-क्या नहीं करते। बस आखिरी जाम की बात कहकर फिर नया जाम लड़ा लेते हैं। मगर उत्तरकाशी के एक गांव में अब ऐसा नहीं चलेगा। यकीन नहीं होता तो बस एक बार इस गांव में शराब पीकर आ जाइए, फिर देखिए क्या होता है। गांव वालों ने शराबी को सबक दिलाने के लिए एक खास तरकीब खोज निकाली है और यह तरकीब फेल नहीं होगी।
उत्तरकाशी के भटवाड़ी ब्लॉक के भराणगांव में युवाओं में तेजी से शराब की लत फैल रही है। हर दिन शराब के नशे में युवा अपनी अजीबो गरीब हरकत से ग्रामीणों को परेशान करते रहते हैं। हालांकि युवा ही शराब पीकर हुड़दंग करते हैं ऐसा नहीं हैं। अधिकांश लोग भी शराब पीकर गांव का माहौल खराब कर रहे हैं।
इन स्थितियों के बीच में ग्रामीणों ने तय किया है कि जो भी गांव में शराब पीकर आएगा उसे कंडाली (बिच्छु घास) लगाई जाएगी। आप कहेंगे कि इसमें क्या बड़ी बात है। बड़ी बात यह है कि एक बार अगर गलती से भी कंडाली घास आपको छू जाए तो पूरी शरीर में करंट दौड़ जाता है। दर्द और झनझनाहट से चीख भी नहीं निकल पाती।
ग्रामीणों ने फेंडेश्वर जगन्नाथ मध्य निषेध समिति का गठन कर शराब के खिलाफ अभियान छेड़ दिया है। अध्यक्ष पूर्ण सिंह राणा ने कहा कि जो भी गांव में शराब पीकर आएगा, उसे कंडाली लगाकर पुलिस के हवाले किया जाएगा। इसके बाद भी उसकी लत नहीं छूटी तो सामाजिक बहिष्कार कर उसे सबक सिखाया जाएगा।
पढ़ें- उत्तराखंड में बाघ और तेंदुए में तगड़ा कॉम्पटीशन, पढ़ें...

loksabha election banner

Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.