Move to Jagran APP

पुलिस हिरासत में नाबालिग छात्र की संदिग्ध परिस्थितियो में मौत

पुलिस हिरासत में एक नाबालिग छात्र की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। परिजनों ने पुलिस पर मारने का आरोप लगाया है।

By JagranEdited By: Published: Thu, 11 Jul 2019 11:46 PM (IST)Updated: Fri, 12 Jul 2019 06:32 AM (IST)
पुलिस हिरासत में नाबालिग छात्र की संदिग्ध परिस्थितियो में मौत

जागरण संवाददाता, सितारगंज : पुलिस हिरासत में एक नाबालिग छात्र की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। छात्र को सिसौना में हुई चोरी के मामले में बुधवार को पूछताछ के लिए सिडकुल पुलिस चौकी लाया गया था। पुलिस मौत को आत्महत्या मान रही है जबकि छात्र के परिजन उसे हत्या मान रहे हैं। लॉकअप में हुई मौत के बाद एसएसपी व एडीएम समेत जिले भर के पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। शव का पंचनामा भर कर उसे पोस्टमार्टम के लिए रुद्रपुर भेजा गया है। छात्र की मौत के बाद से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है। मौत की न्यायिक जांच होगी। वहीं नाबालिग की मौत के बाद क्षेत्र मे आक्रोश भड़क रहा है। इसे देखते हुए भारी पुलिस बल बुला लिया गया है।

सिसौना में आठ-नौ जुलाई की रात हुई राजा के घर में हुई चोरी के मामले मे पुलिस सिसौना निवासी धीरज सिंह राणा 17 वर्ष पुत्र बृजेन्द्र सिंह राणा को पूछताछ के लिए सिडकुल पुलिस चौकी बुधवार को दिन में बारह बजे सिसौना चौराहे से उठा कर लायी थी। बताया जा रहा है कि उससे रात में पुलिस ने पूछताछ की। लेकिन उसे पुलिस ने हिरासत में ही लिए रखा था। गुरुवार को दिन में दो बजे करीब चौकी के हवालात में संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। पुलिस का कहना है कि धीरज ने शर्ट को उतार कर उसे फांसी का फंदा बना लिया और हवालात की जाली में फंसा कर आत्महत्या कर ली। इस घटना के दौरान चौकी में दो पुलिस कर्मी के ही मौजूद रहने की बात बताई गई है। पुलिस कर्मियों का कहना है कि दोपहर में दो बजे क्षेत्र की कुछ महिलाएं समस्या ले कर आई थी। इस वजह से चौकी मे मौजूद पुलिस कर्मी महिलाओं की बाते सुनने लगे थे। इसी दौरान धीरज ने फांसी लगा ली।

वहीं, धीरज के परिजनों का कहना है कि पुलिस ने धीरज की हत्या कर दी है। उसे पुलिस ने इतना टार्चर किया कि उसकी मौत हो गई। हिरासत में मौत की खबर मिलते ही एसएसपी समेत पूरे जिले का पुलिस महकमा सिडकुल चौकी पहुंच गया। एसडीएम मनीष बिष्टन् ने शव का पंचनामा भरा और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा दिया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बरिदरजीत सिंह ने बताया कि चोरी की पूछताछ के लिए धीरज को चौकी पुलिस ले कर आई थी। सीसीटीवी फुटेज में उसे देखा गया था। कहा कि चौकी में तैनात पुलिस कर्मियों बताया कि धीरज ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत का स्पष्ट हो सकेगा। उन्होने माना कि पुलिस कर्मियों की लापरवाही है। अपर जिलाधिकारी जगदीश चन्द्र कांडपाल ने बताया कि भारतीय दंड संहिता के प्रावधानों के तहत मामले की न्यायिक जांच होगी। दूसरी ओर मौत के बाद शांति और सुरक्षा के लिए भारी पुलिस बल बुला लिया गया है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.