संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग: पहाड़ में जंगली जानवरों से होने वाले नुकसान को देखते हुए जिला प्रशासन ने वाइल्ड एनिमल फार्म प्रोटेक्शन डिवाइस स्थापित की है। यह डिवास पांच मीटर के दायरे में सजीव प्राणी को ट्रैक कर सकेगा। बांसी गांव में 15 स्थानों पर यह डिवाइस लगाई गई है।

जिले में जंगली जानवरों से हो रही जनहानि को देखते हुए नई पहल की गई है। जंगली जानवरों का पता लगाने के लिए जिला प्रशासन की ओर से एक अनोखी पहल की गई है। इससे अब जंगली जानवरों को ट्रैक किया जा सकेगा। डीएम मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि भरदार क्षेत्र में गत दिनों गुलदार ने दो लोगों को अपना निवाला बनाया था, लेकिन अभी तक गुलदार का कोई पता नहीं चल सका है। बताया कि अब पहाड़ में जंगली जानवरों का पता लगाने के लिए वाइल्ड एनिमल फार्म प्रोटेक्शन डिवाइस प्रयोग किया जाएगा। इसी कड़ी में सर्वप्रथम बांसी गांव के 15 स्थानों पर यह डिवाइस लगाई गई है। इस डिवाइस से मनुष्य व कृषि को होने वाले नुकसान से बचा जा सकता है। कहा कि यह एक सोलर डिवाइस है तथा इस डिवाइस में सेंसर लगे हैं, जो कि पांच मीटर के दायरे में कोई भी जंगली जानवर हो उसको ट्रैक कर लेगा। ट्रैक करते ही यह डिवाइस आवाज करेगा, जिससे कोई भी जानवर पांच मीटर के दायरे मे आएगा, तो गांव के लोग सतर्क हो जाएंगे। डीएम ने यह डिवाइस जनपद के अन्य गांवों में लगाने को कहा है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस