कोटद्वार, जेएनएन। जिम कार्बेट नेशनल पार्क में गश्त से लौट रहे वन रक्षक को बाघ ने निवाला बना लिया। वन कर्मियों ने जंगल से वन रक्षक का अधखाया शव बरामद किया। 

यही नहीं, शव लेकर लौट रही टीम पर भी बाघ ने हमला किया। इस दौरान बाघ ने शव छीनकर भागने की कोशिश भी की, लेकिन टीम किसी तरह बाघ को भगाने में सफल रही। बाघ बीते चार माह में चार वन कर्मियों को निवाला बना चुका है।

घटना रविवार दोपहर की है। पौड़ी गढ़वाल जिले के यमकेश्वर ब्लाक में कांडी गांव के रहने वाले राजेश नेगी (47) पुत्र बलवंत सिंह नेगी अपने दो सहयोगियों के साथ पलेन रेंज में गश्त पर थे। वापसी में अचानक राजेश पर बाघ ने हमला कर दिया और उन्हें घसीटता हुआ जंगल के भीतर ले गया। 

हड़बड़ाए साथियों ने हवाई फायर कर बाघ को भगाने की कोशिश की, लेकिन वे साथी को बचा नहीं पाए। उन्होंने घटना की सूचना उच्चाधिकारियों को दी। वन कर्मियों की टीम ने उनकी काफी देर तक तलाश की, लेकिन कुछ पता नहीं चला। 

सोमवार सुबह पुन: तलाश शुरू की गई। घटनास्थल से काफी दूर झाड़ियों में राजेश का अधखाया शव मिला। बताया जा रहा है कि टीम जब शव लेकर लौट रही थी, तभी बाघ पुन: आ धमका और शव छीन कर जंगल की ओर मुड़ा। किसी तरह टीम ने बाघ को वहां से भगाया और शव लेकर लौट पाए। शाम शव को पोस्टमार्टम के लिए कोटद्वार लाया गया। पोस्टमार्टम के उपरांत शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया। 

यह भी पढ़ें: चमोली में भालुओं के झुंड ने हमला कर महिला को मार डाला

कमेटी बनाने के निर्देश

मुख्य वन्य जीव प्रतिपालक राजीव भरतरी ने बताया कि इन घटनाओं के आलोक में कार्बेट टाइगर रिजर्व के निदेशक को राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण की गाइड लाइन के अनुसार ढिकाला व चौखम क्षेत्र के लिए कमेटी गठित करने के निर्देश दिए हैं। यह कमेटी बाघ की पहचान और इसे पकड़ने अथवा मारने के संबंध में संस्तुति देगी।

यह भी पढ़ें: तेंदुए से दो दो हाथ करने वाली राखी को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार देने की संस्तुति

Posted By: Bhanu

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस