गोपेश्वर, जेएनएन। जंगल में चारापत्ती एकत्रित करने गई महिला पर भालुओं के झुंड ने हमला कर दिया। इतना ही नहीं जब ग्रामीणों ने शोर मचाया तो भालू महिला को घसीटते हुए खड़ी चट्टान पर ले गए, जहां महिला को मार दिया। एसडीआरएफ ने रेस्क्यू कर महिला के शव को निकाला। वहीं सूचना देने के बाद भी वन विभाग की टीम के मौके पर नहीं पहुंचने से ग्रामीणों ने नाराजगी जताई। 

मिली जानकारी के अनुसार दशोली विकासखंड के स्यूंण गांव की धनेश्वरी देवी (35) पत्नी महेंद्र सिंह राणा चारापत्ती एकत्रित करने के लिए जंगल में गई हुई थी। इस दौरान झाड़ियों में छिपे तीन से अधिक भालुओं ने महिला पर हमला कर घायल कर दिया। 

नजदीक की अन्य महिलाओं ने जब चीख पुकार सुनी तो उन्होंने भालुओं को भगाने के लिए पत्थर फेंके और शोर मचाया, लेकिन भालू महिला उसे उठाकर खड़ी चट्टान पर ले गए। जहां भालुओं ने महिला को मार दिया। महिलाओं की आवाज सुनकर ग्रामीण भी मौके पर पहुंचे। 

खड़ी चट्टान होने के कारण ग्रामीण महिला तक नहीं पहुंच पाए। ग्रामीण भरत राणा के मुताबिक इस दौरान वन विभाग को दूरभाष से घटना की जानकारी दी गई, लेकिन विभाग का कोई भी कर्मचारी मौके पर नहीं पहुंचा। 

इसके बाद ग्रामीणों ने एसडीएम को मामले की जानकारी दी। तब जाकर एसडीआरएफ की टीम ने मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों की मदद से रस्सियों के सहारे महिला के शव को चट्टान से निकाला। 

वहीं, मामले में जानकारी के बाद भी वन विभाग के मौके पर न पहुंचने से ग्रामीणों में आक्रोश है। ग्रामीणों का कहना है कि क्षेत्र में आए दिन भालुओं के आतंक की घटनाएं घटती रहती है। अभी तक भालू कई मवेशियों को अपना निवाला बना चुके हैं, लेकिन शिकायत व सूचना के बाद भी वन विभाग लापरवाह बना हुआ है। उन्होंने प्रशासन से वन विभाग के आला अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की है।

टाईगर के हमले में वन कर्मी घायल

कालागढ़ टाईगर रिजर्व में गश्त के दौरान वन कर्मी पर टाईगर ने हमला कर दिया। शाम फारेस्ट गार्ड राकेश साथियों के साथ हल्दुपड़ाव से मदाल्टी की तरफ गश्त पर था। टाईगर राकेश को घसीटता हुआ जंगल के भीतर ले गया। इस पर अन्य लोगों ने अधिकारियों को सूचना दी। सूचना के बाद विभागीय अधिकारियों ने जंगल में राकेश की तलाश की। 

यह भी पढ़ें: तेंदुए से दो दो हाथ करने वाली राखी को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार देने की संस्तुति

बताया जा रहा है कि राकेश बुरी तरह घायल हालत में मिला। लैंसडौन वन प्रभाग की कोटडी रेंज के रेंजर आरपी पंत ने बताया कि मदाल्टी से कोटद्वार की तरफ वन मार्ग क्षतिग्रस्त है, जिस कारण घायल को हल्दुपदाव की तरफ से लाया गया है। 

यह भी पढ़ें: चार साल के भाई को सीने से चिपका कर तेंदुए के वार झेलती रही बच्‍ची

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप