कोटद्वार, जेएनएन। श्रम मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत का कहन है कि महिलाओं और श्रमिकों का उत्थान उनकी पहली प्राथमिकता है। समाज के उपेक्षित वर्ग के लिए सामाजिक संस्थाओं को सरकार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कार्य करना चाहिए। कहा कि बेहतर विकास के लिए प्रत्येक श्रमिक और महिला को सरकार की ओर से चलाई जा रही योजनाओं का लाभ उठाना चाहिए।

कोटद्वार के प्रेक्षागृह में शनिवार को महिला उत्थान और बाल कल्याण संस्था की ओर से आयोजित कार्यक्रम में कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि केंद्र और प्रदेश सरकार समाज के उपेक्षित वर्ग के हितों को लेकर कार्य कर रही है। श्रम विभाग के माध्यम से महिला और श्रमिकों के लिए विभिन्न योजनाएं चलाई जा रही हैं। कहा कि जरुरतमंद लोगों को विभाग में अपना पंजीकरण कराकर इन योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ उठाना चाहिए। संस्था की अध्यक्ष अनुकृति गुसाईं ने कहा कि पहाड़ की महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए उन्हें कौशल विकास का प्रशिक्षण देना जरूरी है। इसके लिए संस्था गांव-गांव जाकर महिलाओं को प्रशिक्षण दे रही है। 
महिलाओं के बनाए गए उत्पादों को बाजार देने के लिए संस्था की ओर से ऑनलाइन पोर्टल भी तैयार किया जा रहा है। इससे पहाड़ी उत्पादों को पूरी दुनिया में पहचान मिलेगी। कार्यक्रम में महिला समूहों से जुड़ी महिलाओं ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी। इस मौके पर हंस फाउंडेशन के प्रदेश प्रभारी पदमेंद्र सिंह बिष्ट, भाजपा जिलाध्यक्ष शैलेंद्र सिंह बिष्ट, पूर्व नगर पालिकाध्यक्ष रश्मि राणा, अमित भारद्वाज, मोहन सिंह, वीरेंद्र रावत आदि मौजूद रहे। 
पैसे लेने वालों की करें शिकायत 
श्रम मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने कहा कि श्रम विभाग में पंजीकरण के नाम पर अतिरिक्त पैसे वसूलने वाले अधिकारी या कर्मचारियों को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा। सरकार की ओर से इसके लिए फीस तय की गई है, जिसकी रसीद श्रमिकों को उपलब्ध कराई जाती है। कहा कि यदि इससे अतिरिक्त पैसे कोई लेता है, तो उसकी शिकायत मुझसे करें।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप