पौड़ी, जेएनएन। श्रीनगर पालिका के आठ सभासदों ने सामूहिक इस्तीफे की चेतावनी दी है। सभासदों ने पालिका अध्यक्ष के पति पर पालिका के कार्यों में हस्तक्षेप का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि पालिका अध्यक्ष और उनके पति व्यक्तिगत द्वेषभावना से कार्य कर रहे हैं। सभासदों ने जिला मुख्यालय पहुंचकर जिलाधिकारी धीराज गब्र्याल को ज्ञापन सौंपा है। वहीं, सभासदों की शिकायत पर जिलाधिकारी ने उक्त संबंध में अपर जिलाधिकारी को जांच के आदेश दिए हैं। 

श्रीनगर पालिका अध्यक्ष पूनम तिवाड़ी और सभासदों के बीच विवाद बढ़ता ही जा रहा है। सोमवार को पालिका के आठ सभासदों ने जनपद मुख्यालय पहुंचकर इस संबंध में जिलाधिकारी धीराज गब्र्याल से शिकायत की है। सभासदों ने आरोप लगाया कि पालिका की ओर से गठित समितियों में सभासदों को शामिल करने के बजाय बाहरी व्यक्तियों को शामिल किया जा रहा है। अध्यक्ष की अनुपस्थिति में उनके कक्ष में बाहरी व्यक्तियों का जमावड़ा लगा रहता है, जिससे विभागीय कार्य प्रभावित हो रहे हैं। सभासदों ने वार्डों में हो रहे विकास कार्यों में भेदभाव करने का आरोप भी लगाया है। सभासदों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपकर पालिका अध्यक्ष पति के हस्तक्षेप पर रोक न लगाने पर सामूहिक इस्तीफे की चेतावनी दी है। 

वहीं, जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी को उक्त मामले की जांच कर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं। साथ ही अध्यक्ष कार्यालय में योग्य व्यक्ति के ही बैठे रहने के निर्देश दिए हैं। ज्ञापन सौंपने वालों में सभासद अनूप बहुगुणा, विभोर बहुगुणा, विनीत पोश्ती, सूरज हिमालयास, प्रमिला भंडारी, हिमांशु बहुगुणा, हरि सिंह मियां, कविता रावत आदि शामिल थे। 

श्रीनगर नगर पालिका की अध्यक्ष पूनम तिवाड़ी का कहना है कि वार्डों में विकास कार्यों में कोई भेदभाव नहीं किया जा रहा है। आरोप बेबुनियाद हैं। समिति का गठन योग्यता के आधार पर किया गया है। जहां तक पालिका में मेरे पति के आने का सवाल है। वह एक राजनीतिक व्यक्ति हैं। लोग उन्हें अपने साथ लेकर यहां आते हैं। अधिकांश सभासद भाजपा से हैं, हो सकता है इसलिए इसे राजनीतिक रूप दिया जा रहा हो। मैं यहां काम करने आई हूं, राजनीति करने नहीं।

यह भी पढ़ें: 28 को जिला मुख्यालयों में धरना देगा उत्तराखंड एससी-एसटी फेडरेशन  

कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता हैं पालिका अध्यक्ष के पति

पालिका अध्यक्ष पूनम तिवाड़ी के पति कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता हैं। सभासदों और पालिका अध्यक्ष के बीच बैकुंठ चतुर्दशी मेले के आयोजन से ही विवाद चल रहा है। मेले के आयोजन के दौरान भी सभासदों ने उनकी उपेक्षा किए जाने का आरोप लगाया था।

यह भी पढेें: पुरानी पेंशन बहाली की मांग पर शिक्षकों का हल्लाबोल, प्रधानमंत्री को भेजा ज्ञापन 

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस