नरेश कुमार, नैनीताल : सरोवर नगरी में लगातार हो रही बारिश नैनी झील के लिए वरदान साबित हो रही है। बारिश से झील के जलस्तर ने लगातार दूसरे वर्ष जुलाई में ही दस फीट का आंकड़ा छू लिया है। शाम तक जलस्तर सामान्य से दस फीट ऊपर दर्ज किया गया। बीते वर्ष जुलाई अंत में यह 10.7 फीट था। हालांकि अभी इस माह के दस दिन और शेष है। जिससे जुलाई माह में ही जलस्तर 11 फीट से ऊपर पहुंचने की संभावना है।

इस साल शीतकाल में औसत से कम बारिश और कम बर्फबारी से जलस्तर में गिरावट आनी शुरू हो गई थी। मई में प्री-मानसून में अच्छी बारिश होने से झील के गिरते जलस्तर की चिंता कम होने लगी। मानसून की बारिश झील के लिए सोने पर सुहागा साबित हुई। ढाई माह में ही माइनस के करीब पहुंचा झील का जलस्तर सामान्य से दस फीट ऊंपर पहुंच गया है।

चार दिन में तीन फीट बढ़ा जलस्तर

बीते चार दिनों में झील के जलस्तर में करीब तीन फीट की बढ़ोत्तरी हुई है। बारिश शुरू होने से पूर्व जहां झील का जलस्तर करीब सात फीट बना हुआ था, वह बढ़कर दस फीट पहुंच गया है।

रोस्टिंग रही लाभदायक

झील की सेहत के लिए जल संस्थान द्वारा 2018 में शुरू की गई रोस्टिंग लाभकारी साबित हो रही है। 2016 में झील के जलस्तर में आई भारी गिरावट के बाद विभाग द्वारा यह निर्णय लिया गया था। पहले रोजाना 16 एमएलडी तक पानी की सप्लाई की जाती थी। जिसे रोस्टिंग के बाद घटा कर 7-8 एमएलडी कर दिया गया है। जिससे गर्मियों के दिनों में झील के जलस्तर में कोई भारी गिरावट दर्ज नहीं की जा रही है।

24.5 मीटर माना जाता है शून्य

झील नियंत्रण कक्ष से मिली जानकारी के मुताबिक झील की अधिकतम गहराई 27 मीटर है। पानी के मापन के लिए झील किनारे पर गेज मीटर लगाया गया है। जिसमें 0-12 फीट तक ऊंचाई इंगित है। गेज मीटर में 0 से नीचे जाने पर माइनस, जबकि जलस्तर ऊपर रहने पर प्लस में मापा जाता है। जलस्तर के परिपेक्ष्य में 24.5 मीटर जलस्तर को सामान्य माना जाता है। जिससे आशय यह है कि जलस्तर सामान्य से नीचे जाने पर भी करीब 24.5 मीटर पानी बना रहता है।

पांच वर्षो में जुलाई में यह रहा झील का जलस्तर

वर्ष           जलस्तर फीट

2020       10.75

2019       4.4

2018       2.6

2017       2.5

2016       3.9

Edited By: Skand Shukla