जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : दोस्तों संग गौला नदी में नहाने गए दो सगे भाई गहरे पानी में जाने की वजह से डूब गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से काफी मशक्कत के बाद शवों को बाहर निकाला। घटना के बाद से परिवार में कोहराम मचा हुआ है। मजदूरी कर मां-बाप बच्चों को पढ़ा रहे थे।

मूल रूप से मुरादाबाद के कालाझंडा निवासी राम प्रसाद 15 सालों से हल्द्वानी में रह रहा है। वर्तमान में पत्नी कमलेश व तीन बच्चों रोमिंस (15), रोहन (12) और बेटी पूजा (10)संग वह बरेली रोड स्थित उत्तर गौजाजली वार्ड 60 में किराये पर रह रहा था। बच्चों की बेहतर परवरिश के लिए पति-पत्नी दोनों काम करते थे। गुरुवार दोपहर खाना खाने के बाद रोमिंस और रोहन गली में खेलने की बात कहकर निकल गए। चार बजे तक वह नहीं लौटे तो मां को चिंता हो गई। जिसके बाद किसी ने डायल 112 पर फोन कर पुलिस को सूचना दी। इस बीच पता चला कि दोनों भाई अपने कुछ दोस्तों के साथ आंवला चौकी खनन गेट के पास गौला नदी में नहाने गए थे। और इस दौरान लापता हो गए। जिसके बाद बनभूलपुरा थाने और मंडी चौकी की पुलिस भी नदी में पहुंच गई।

सूचना पर सीओ शांतनु पराशर व तहसीलदार नितेश डागर भी पहुंच गई। दोस्तों की बताई लोकेशन के हिसाब से पानी में सर्च ऑपरेशन चलाकर दोनों की बॉडी को बाहर निकाला गया। इस दौरान लोगों का जमावड़ा लगा गया। सड़क पर बेसुध मां को किसी तरह महिला पुलिसकर्मी ने संभाला। बच्चों के परिजन उनसे बात करने की असफल कोशिश करते देखे गए। इस भावुक मंजर को वहां मौजूद देख हर कोई रो पड़ा। फिलहाल पीएम के लिए शवों को मोर्चरी भिजवाया गया है। वहीं, श्रमिक परिवार पर दुखों का पहाड़ टूटने पर बड़ी संख्या में स्थानीय लोग व महिलाएं भी ढांढस बंधाने को घर पहुंचे थे।

Edited By: Prashant Mishra