मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

रुद्रपुर, जेएनएन : तीन तलाक मामले में कानूनी जंग लड़ चुकी शायरा बानो ने कहा कि कानून बन जाने से तीन तलाक देने वाले लोगों में भय पैदा होगा। वहीं समाज उन्नति की राह पर भी चलेगा। लोकसभा में तीन तलाक बिल के पास होने पर खुशी जताते हुए उन्होंने सभी दलों से राज्यसभा में भी सहयोग की अपील की। 

हेमपुर डिपो काशीपुर निवासी शायरा बानो पुत्री इकबाल अहमद का निकाह 2002 में इलाहाबाद निवासी रिजवान के साथ हुआ था। शादी के कुछ माह तक तो सबकुछ ठीक चला। बाद में दहेज को लेकर ससुराली उत्पीडऩ करने लगे। इसके बाद शायरा बानो अपने पति रिजवान के साथ किराये के मकान में रहने लगी। इस दौरान पति से विवाद होने के बाद वह अपने मायके आ गई। इसके बाद पति ने डाक के जरिये तीन तलाक लिखकर पत्र भेजा। इसके खिलाफ शायरा ने काशीपुर कोर्ट की शरण ली और बच्चों के भरण पोषण को प्रार्थना पत्र दिया। कोर्ट के आदेश पर भी पति उपस्थित नहीं हुआ तो शायरा ने सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक के खिलाफ प्रार्थना पत्र दिया। सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक के विरोध में फैसला सुनाते हुए केंद्र सरकार को कानून बनाने को निर्देशित किया था। गुरुवार को लोकसभा में बिल पास होने पर शायरा बानो ने कहा कि जल्द इसे कानून बनना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी देश में कई मामले तीन तलाक के आए, यानी लोगों में भय पैदा नहीं हुआ। यदि कानून बनता है तो तीन तलाक देने से पहले लोगों में डर पैदा होगा। यह कानून बनने से मुस्लिम महिलाओं का उत्पीडऩ रुकेगा और उन्हें राहत मिलेगी। 

 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप